25 साल में सबसे बड़ी जीत हासिल की वेंकैया नायडू ने

आज सवेरे 10 बजे राष्ट्रपति भवन में नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने अपने पद और गोपनीयता की शपथ ली। शपथ ग्रहण करने के साथ ही नायडू देश के 13वें उपराष्ट्रपति बन गए। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने नए उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को शपथ दिलवाई। राष्ट्रपति भवन में वेंकैया नायडू का शपथ समारोह आयोजित हुआ .इस शपथ ग्रहण समारोह में केंद्रीय मंत्रिमंडल के सभी सदस्य, दोनों सदन के सांसद, वर्तमान प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी व पूर्व प्रधानमन्त्री डॉ. मनमोहन सिंह सम्मिलित हुए। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, उपराष्ट्रपति नायडू के विशेष निमंत्रण पर शपथ समारोह में शामिल हुई। मुख्यमंत्री राजे ने शपथ ग्रहण करने के बाद वेंकैया नायडू को बधाई दी और कार्यभार ग्रहण करने पर शुभकामनाएं दी। उल्लेखनीय है कि भैरोसिंह शेखावत के बाद वेंकैया नायडू भाजपा की तरफ से दूसरे उपराष्ट्रपति बने हैं।

Read More: Rajasthan’s Tryst with Power: After Shekhawat & Patil, Venkaiah Naidu is the next VP Nominee 

शपथ से पहले महात्मा गांधी, दीनदयाल उपाध्याय और सरदार पटेल को श्रद्धांजलि दी

राष्ट्रपति भवन में आयोजित शपथ समारोह में शपथ ग्रहण करने से पहले वैकैया नायडू राजघाट पहुंचे। वहां जाकर उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके बाद नायडू ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय और सरदार वल्लभ भाई पटेल को भी श्रद्धांजलि दी। बाद में राष्ट्रपति भवन जाकर शपथ ग्रहण की। शप्पथ ग्रहण करने के बाद उपराष्ट्रपति नायडू संसद पहुंचे। वहां राज्यसभा में अपने सभापति का पदभार ग्रहण किया।

25 साल में सबसे बड़ी जीत हासिल की थी वेंकैया ने

संसद के दोनों सदनों में समर्थन में सांसदों की अच्छी खासी संख्या होने के कारण एनडीए प्रत्याशी वेंकैया नायडू का जीतना तय माना जा रहा था .लेकिन सरल स्वभाव और मृदुभाषी नायडू ने उपराष्ट्रपति के इस चुनाव में पिछले 25 सालों में सबसे बड़ी जीत दर्ज़ की। गौरतलब है की पिछले 55 साल में इस बार कुल मतदान प्रतिशत सबसे ज़्यादा 98.21 प्रतिशत रहा। करीब 68 फीसदी वोट के साथ नायडू को कुल 771 में से 516 सांसदों के वोट मिले।

Read More: उपराष्ट्रपति चुनाव में वेंकैया नायडू की जीत तय, राज्यसभा में भी भाजपा आगे

पूर्व उपराष्ट्रपति अंसारी के बयान का खंडन किया

अभी कल ही मोहम्मद हामिद अंसारी का उपराष्ट्रपति पद पर कार्यकाल ख़त्म हुआ। इस अवसर पर उपराष्ट्रपति अंसारी के लिए विदाई समारोह का आयोजन किया गया था। अपने विदाई सम्बोधन में उपराष्ट्रपति अंसारी ने कहा था कि वर्तमान समय में भारत में अल्पसंख्यक सुरक्षित नहीं है। आज शपथ ग्रहण करने के बाद श्री अंसारी के इस बयान का खंडन करते हुए नए उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा कि भारत अल्पसंख्यकों के लिए सबसे सुरक्षित देश है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here