किसान ऋण राहत आयोग बनाएंगे ताकि तुरंत किसानों का कर्जा माफ हो सके: मुख्यमंत्री राजे

    0
    141
    vasundhara raje farmers

    राहुल गांधी एवं कांग्रेस के किसानों के कर्ज मामले में भाजपा को घेरने के बारे में मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा है कि हम कांग्रेस की तरह हवा में बात नहीं करते। हम जनता के आशीर्वाद से एक बार फिर भाजपा की सरकार बनाएंगे और फिर से किसानों का कर्जा माफ करेंगे। vasundhara raje farmers

    इसके लिए हम संभागवार किसान ऋण राहत आयोग बनाएंगे, ताकि तुरन्त ही किसानों का कर्जा माफ किया जा सके। मुख्यमंत्री राजे राजे मंगलवार को उदयपुर के सल्लाड़ा में सलूम्बर प्रत्याशी अमृतलाल मीणा, रायपुर में सहाड़ा प्रत्याशी रूपलाल जाट, कोटड़ी में जहाजपुर प्रत्याशी गोपीचंद मीणा, टोंक में यूनुस खान, कापरेन में चन्द्रकांता मेघवाल के समर्थन में चुनावी जनसभाओं को संबोधित कर रही थीं। vasundhara raje farmers

    मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा, ‘राहुल गांधी कहते हैं कि हमने एक भी किसान का कर्जा माफ नहीं किया, जबकि सब जानते हैं कि इतिहास में पहली बार हमारी सरकार ने 30 लाख किसानों का 50 हजार रुपए तक का कर्जा माफ किया है।’ राजे ने कहा कि हम जो कहते हैं, उसे जमीन पर उतारने के लिए घोषणा करने से पहले ही योजना बना लेते हैं। हमने किसानां का कर्जा माफ तो किया ही है, किसानों की बिजली भी मुफ्त कर दी। vasundhara raje farmers

    Read More: कांग्रेस की सभाओं में ‘पाकिस्तान जिंदाबाद  के नारे लग रहे हैं: मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे

    मातृ शक्ति से डरने लगी कांग्रेस vasundhara raje farmers

    मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस को अब प्रदेश की मातृशक्ति से भी डर लगने लगा है क्योंकि भामाशाह योजना के कारण प्रदेश की मातृशक्ति जागृत, स्वावलम्बी और घर की मुखिया हो चुकी है। कांग्रेस पार्टी को महिलाओं की जागृति और तरक्की से डर लगता है इसीलिए कांग्रेस के नेता कहते हैं कि उनकी सरकार आई तो वे भामाशाह योजना को बंद कर देंगे। पर ऐसा नहीं होगा। न कांग्रेस आएगी और न भामाशाह योजना बंद होगी।

    2013 में चुनाव से पहले कांग्रेस ने बजरी के ठेकों से कमाया पैसा

    श्रीमती राजे ने कहा कि 2013 में चुनावों से 4 महीने पहले बजरी के ठेके देकर कांग्रेस ने ठेकेदारों से चुनावी चंदे के लिए मोटी रकम उठायी। जब हमारी सरकार आयी तो हमने नियम बनाने की कोशिश की लेकिन ये लोग मामला कोर्ट में ले गए। उन्होंने कहा कि हमने नियम बनाने के लिए न्यायालय तक में लड़ाई लड़ी है और अब बजरी की समस्या खत्म होने वाली है।

    RESPONSES

    Please enter your comment!
    Please enter your name here