मैं वसुंधरा राजे सभी देशवासियों को सोशल मीडिया के माध्यम से एक सन्देश देना चाहती हूँ। मुझे आशा है की आप मेरी बात को पढ़ेगें और इसके प्रति अपनी ज़िम्मेदारी को निभाएंगे। मैं किसी भी दल का नाम नहीं लेना चाहूंगी जो गौमाता पर राजनीति करना चाहते हैं। गौमाता एक राजनीतिक प्रकरण नहीं, हमारी पूजा का आधार है।

राजस्थान देश का पहला राज्य है जिसने गौपालन विभाग का गठन किया। राज्य सरकार गोधन के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए हरसंभव प्रयास कर ही रही है और गौमाता का संरक्षण हम सबका कर्तव्य है।

कई लोग ऐसे हैं जो गौमाता से दूध तो ग्रहण करते हैं, लेकिन बाद में उन्हें सड़क पर खुला छोड़ देते हैं जिसके कारण गाय इधर उधर भटक कर अपना पेट भर लेती है और साथ ही प्लास्टिक पदार्थ भी खा लेती है। ऑपरेशन के दौरान गायों के पेट से प्लास्टिक पदार्थ, थैलियां मिलती हैं जिस कारण गांय की मृत्यु होती है। गौ की देखभाल, पालन पोषण हम सभी की ज़िम्मेदारी है। पालन करने वाले का दायित्त्व है जन्म से मृत्यु तक गौवंश का भरण-पोषण करे। साथ ही हम सब प्रण लें कि हम प्लास्टिक का न खुद उपयोग करेंगे, न औरों को करने देंगे। तो आइये गायों की पुत्रवत देखभाल करने का संकल्प लेकर पूजनीय गोमाता को बचाएं। जय – जय राजस्थान।