vasundhara-raje

प्रदेश में कानून, पुलिस और प्रशासन की प्रभावी मोनेटरिंग द्वारा आमजन को अधिकाधिक फायदा पहुँचाने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की पहल पर शुरू किये गए कलेक्टर-एसपी कॉन्फ्रेंस के पहले दिन राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग से सेवाओं को त्वरित गति और पारदर्शिता के साथ लोगों तक पहुंचाने पर मंथन किया गया। मुख्यमंत्री ने सभी जिला कलेक्टरों से दस घण्टे से भी अधिक समय तक फीडबैक लिया और आवश्यक दिशा निर्देश देते हुए जिला कलेक्टरों को अपने कामकाज में अधिक से अधिक आईटी का उपयोग कर आमजन को राहत पहुंचाना सुनिश्चित करने को कहा।

राजस्थान बना आईटी में लीडर स्टेट:

राजस्थान सरकार ने आज जनसमस्याओं को दूर करने के लिए आईटी के माध्यम से विभिन्न ऐसी पहल की हैं, जिनको पूरे देश में सराहा गया। राष्ट्रीय स्तर के कई अवार्ड जीतकर राजस्थान आज आईटी में लीडरशिप कर रहा है। अभी हाल ही में नेशनल आईटी डे पर पूरे देश में डिजिटल लीडर ऑफ द ईयर अवार्ड के साथ ही हमें भामाशाह योजना के लिए ई गवर्नेंस इनिशिएटिव ऑफ द ईयर अवार्ड, अभय कमांड सेंटर के लिए इफेक्टिव यूज ऑफ टेक्नोलॉजी एंड सेफ्टी अवार्ड और भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के लिए हैल्थ इंश्योरेंस इनिशिएटिव ऑफ द ईयर जैसे प्रतिष्ठित अवार्ड मिले हैं। जो यह साबित करते है, कि आज राजस्थान आईटी सेक्टर में देश का अव्वल राज्य है।

सभी अधिकारी जुड़े सूचना तकनीकी से:

मुख्यमंत्री राजे ने गुड गवर्नेंस के लिए सूचना तकनीक के इस्तेमाल पर ज़ोर देते हुए, सभी जिला कलेक्टर और अधिकारियों को आमजन की समस्याओं के प्रभावी और शीघ्र निस्तारण तथा योजनाओं की प्रभावी निगरानी के लिए निर्देश दिए। वसुंधरा राजे ने अधिकारियों को नवाचारों के रूप में विकसित किए गए जनसम्पर्क, ई-मित्र पोर्टल, एमजेएसए मोबाइल एप का उपयोग करने के लिए सुझाया। कई  जिला कलेक्टरों ने बताया कि उन्होंने अपने जिलों में कार्यव्यवस्था को आमजन के लिए सुगम बनाने के लिए इस प्रकार के एप्लीकेशंस अपनाए हैं। मुख्यमंत्री ने इन अधिकारियों को अपने क्षेत्र में तकनीकी, विज्ञान और नवाचारों को प्रेरित करने और युवाओं को इस क्षेत्र में प्रोत्साहन देने के लिए कहा।

स्मार्ट पुलिसिंग के लिए स्थापित किये जायेंगे 6 अन्य अभय कमांड सेण्टर:

मुख्यमंत्री ने स्मार्ट पुलिसिंग के लिए जयपुर पुलिस कमिश्नरेट में स्थापित अत्याधुनिक पुलिस कंट्रोल रूम ‘अभय कमाण्ड सेंटर’ को डिजास्टर मैनेजमेंट तथा फायर सर्विसेज के लिए भी फायदेमंद बताते हुए कहा कि राज्य के अन्य 6 संभागीय मुख्यालयों पर भी अभय कमांड सेंटर स्थापित किए जाएंगे और राज्य में प्रशासन की पूरी निगरानी के लिए सभी जिला मुख्यालयों को चरणबद्ध रूप से इन कमाण्ड सेंटर से जोड़ा जाएगा। यह गर्व की बात है, कि अभी कुछ दिन पहले ही केंद्र सरकार द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर राजस्थान को अभय कमांड सेण्टर के लिए इफेक्टिव यूज ऑफ टेक्नोलॉजी एंड सेफ्टी अवॉर्ड दिया गया है।

विकासकार्यों में लाये गुणवत्ता के साथ तेजी:

कलेक्टर-एसपी कॉन्फ्रेंस के पहले दिन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सभी अधिकारियों को प्रदेश के विकासकार्यों में गुणवत्ता के साथ-साथ तेजी लाने के निर्देश दिए। उन्होनें न्याय आपके द्वार तथा दीनदयाल उपाध्याय जनकल्याण पंचायत शिविर जैसे आयोजनों पर अधिकारियों को जनता का पूर्ण सहयोग करने के लिए कहा। युवाओं को रोजगार देने के लिए चलाए जा रहे स्किल डवलपमेंट सेंटर्स की नियमित निगरानी के आदेश दिए। और कहा कि हमारे युवाओं को कौशल विकास से जोड़कर उनकी ऊर्जा का सकारात्मक उपयोग करना सरकार की प्राथमिकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here