केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गर्भवती महिलाओं की प्रसवपूर्व जांच एवं परामर्श के लिए संचालित प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान में प्रदेश सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों की प्रसंशा की हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से अभियान में स्वेच्छिक सेवाएं बढ़ाने के  आह्वान के बाद राज्यस्तर एवं जिला स्तर पर निजी चिकित्सकों, सेवानिवृत चिकित्सकों एवं चिकित्सकों के विभिन्न संगठनों को जोड़ने के निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं।  यह अभियान प्रत्येक महीने की 9 तारीख को प्रदेश के समस्त राजकिय चिकित्सालयों में प्रभावी रूप से आयोजित किया जा रहा हैं।

मातृत्व सेवाओं में सुदृढ़ीकरण

प्रदेश में मातृ व शिशु मृत्युदर में कमी लाने एवं मातृत्व सेवाओं में सुदृढ़ीकरण हेतु प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व दिवस अभियान चलाया गया। सभी जिला अस्पतालों से लेकर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में प्रत्येक माह की 9 तारीख को प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व दिवस आयोजित किये जा रहे हैं। अभियान के अन्तर्गत राजस्थान सरकार गर्भवती महिलाओं को चिकित्सकों व स्त्रीरोग विशेषज्ञों की देखरेख में प्रसवपूर्व स्वास्थ्य जांच एवं परामर्श की निःशुल्क सेवाएं उपलब्ध करवा रही हैं।

b-m-1072016-1

हर वर्ष19 लाख से अधिक महिलायें करती हैं गर्भधारण

प्रदेश में हर वर्ष 19 लाख से अधिक महिलायें गर्भधारण करती हैं, इनमें से 1 लाख 90 हजार प्रसव संबंधी जटिलतायें उत्पन्न होने की संभावना रहती है। बेहतर प्रसव पूर्व जांच सेवायें प्रदान कर 80 फीसदी जटिलताओं को ठीक किया जा सकता है। प्रदेश में सुरक्षित मातृत्व सुनिश्चित करने के उददेश्य से कुशल मंगल कार्यक्रम, सुरक्षित मातृत्व दिवस एवं प्रसूति नियोजन दिवस संचालित किये जा रहे हैं । इन नवाचार गतिविधियों सहित प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व दिवस अभियान के आयोजन से गर्भावस्था एवं प्रसव के दौरान विशेष रूप से जटिल खतरों वाली संभावित गर्भवती महिलाओं को स्वास्थ्य संबल मिल रहा हैं।

गर्भवती महिलाओं को निशुल्क सेवाएं उपलब्ध करवा रही हैं राज्य सरकार

राज्य सरकार ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व दिवस के आयोजन में विशेष गंभीरता बरतकर इसका लाभ गर्भवती महिलाओं को सुलभ कराने के निर्देश दिये हैं समस्त प्राथमिक, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र तथा जिला, उपजिला एवं सैटेलाईट अस्पताल गर्मियों में 1 अप्रैल से 30 सितम्बर तक में प्रातः 8 से 2 बजे तक एवं सर्दियों में 1 अक्टूबर से 31 मार्च तक प्रातः 9 बजे से दोपहर 3 बजे तक प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व दिवस क्लिनिक संचालित कर सेवाएं सुनिश्चित की जा रही हैं। प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत गर्भवती महिलाओं के लिए खून की जांच, पेशाब की जांच, रक्तचाप, शुगर इत्यादि जांचों सहित आवश्यक औषधियों की निशुल्क सेवाएं उपलब्ध करवाई जा रही हैं।

47 निजी चिकित्सकों ने कराया रजिस्ट्रेशन

प्रदेश में अभियान में स्वैच्छिक सेवाएं देने के लिए देश भर से सराहनीय 47 चिकित्सकों ने अपना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाया हैं। जबकि पंजाब में 38, असम में 37, तेलंगाना में 23 एवं आंध्रप्रदेश में 29 निजी चिकित्सकों का पंजीकरण हुआ हैं।  राजस्थान में चिकित्सा मंत्री, उच्चाधिकारियों सहित जिला कलक्टर भी आईएमए, एफओजीएसआई, जेओजीस, एमपीएस इत्यादि चिकित्सकों के प्रतिष्ठान संगठनों से चर्चा कर उन्हे अभियान में आमंत्रित कर रहे हैं। स्वैच्छिक सेवाएं देने को ईच्छुक चिकित्सक वेब पोर्टल के जरिए अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here