करीब 75 दिन से अस्पताल में भर्ती तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे.जयललिता का सोमवार देर रात निधन हो गया। अपोलो अस्पताल ने इसकी पुष्टि की है। उनका अंतिम संस्कार आज मरीना बीच पर एमजीआर की समाधि के पास शाम साढ़े चार बजे किया जायेगा। अम्मा के नाम से पूरे तमिलनाडु में मशहूर जयललिता का पार्थिव शरीर अभी लोगों के अंतिम दर्शन के लिए उनके पोएश गार्डन के बगल स्थित राजाजी हॉल में रखा गया है। उनके अंतिम दर्शन के लिए स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी आज चेन्नई पहुचें। जयललिता के निधन पर देश के लगभग सभी प्रमुख नेताओं ने शोक प्रकट किया है। तमिलनाडु सरकार ने सात दिन का शोक व तीन दिन की छुट्टी घोषित की है। केरल सरकार ने भी आज अपने यहां छुट्टी घोषित कर दी है। केंद्र सरकार के प्रतिनिधि के रूप में वरिष्ठ मंत्री वेंकैया नायडू पहले ही चेन्नई पहुंच चुके हैं।

ओ. पन्नीरसेल्वम ने देर रात ली मुख्यमंत्री के पद की शपथ

तमिलनाडु सरकार के मंत्री और अन्नाद्रमुक के वरिष्ठ नेता ओ. पन्नीरसेल्वम ने जे. जयललिता की मृत्यु के बाद सोमवार देर रात राज्य के मुख्यमंत्री के पद की शपथ ले ली। राज्यपाल विद्यासागर राव ने उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। अस्पताल की तरफ से दिए गए बयान में कहा गया, इस घोषणा के लिए हमारे पास शब्द नहीं हैं। यह बताते हुए बड़ा दुख हो रहा है कि ‘अम्मा’ जयललिता अब इस दुनिया में नहीं रहीं। उन्होंने रात 11.30 बजे अंतिम सांस ली।’ उन्हें 22 सितंबर को बुखार और पानी की कमी के कारण भर्ती कराया गया था। उनकी पार्टी एआईएडीएमके ने भी निधन की पुष्टि की है।

कयासों का दौर
करीब 26 घंटे तक उनकी सेहत को लेकर कयासों का दौर चला। सोमवार शाम कुछ तमिल चैनलों ने उनके निधन की खबर चला दी थी। इसके बाद उनके समर्थकों में अफरातफरी मच गई थी। उनके समर्थक बेकाबू भी हो गए थे जिस वजह से पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा। राज्यभर में जिस तरह के सुरक्षा इंतजाम किए गए थे उससे माना जा रहा था कि जयललिता की हालत बेहद  गंभीर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here