dravyvati-river

राजधानी जयपुर में बरसों पुरानी द्रव्यवती नदी सौन्दर्यन प्रोजेक्ट की राह में सेना क्षेत्र मुसिबत बनता जा रहा है। सेना क्षेत्र के दायरे में आ रहे 3.5 किलोमीटर लंबी द्रव्यवती नदी का सौन्दर्यन का कार्य सेना अधिकारियों की अनुमति के बिना नही हो पा रहा है। इस प्रोजेक्ट को आगे बढ़ाने के लिए मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने देश के रक्षा मंत्री अरुण जेटली को पत्र लिखा है। अपने पत्र में मुख्यमंत्री राजे ने द्रव्यवती नदी सौन्दर्यन प्रोजेक्ट के बारें में बताया है साथ ही मुख्यमंत्री राजे ने पत्र में कहा है कि स्थानीय सैनिक अधिकारियों से इस प्रोजेक्ट में सहयोग करने की अनुमति प्रदान करे। मुख्यमंत्री राजे ने इसके लिए द्रव्यवती नदी को पुनर्जीवित करने की बात कही है। इसमें अंबाबाड़ी पुलिया से लेकर हसनपुरा पुलिया से पहले तक का 3.5 किमी लंबा हिस्सा सेना क्षेत्र में शामिल है। हालांकि एक दिन पहले सेना और जेडीए अधिकारियों ने मौका मुआयना  भी किया है ।

यह भी पढ़ें: अब जयपुर का गंदा नाला जल्द बनेगा शानदार दृव्यावती रिवर फ्रंट, मुख्यमंत्री राजे खुद करवा रही है इसका काम

मुख्यमंत्री राजे ने दी द्रव्यवती नदी सौंदर्यन प्रोजेक्ट की जानकारी

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने रक्षा मंत्री को लिखे गये अपने पत्र में द्रव्यवती नदी प्रोजेक्ट के बारे में विस्तार से जानकारी दी । उन्होने लिखा कि जयपुर विकास प्राधिकरण 45 किमी लंबी पुरानी द्रव्यवती नदी को पुनर्जीवित करने का काम कर रहा है जो जयपुर शहर में से गुजर रही है। इस नदी का उदगम स्थल नाहरगढ़ की पहाड़ियों से हुआ है जो ढूंढ नदी में जाकर मिलती है। 1600 करोड़ रुपए के इश प्रोजेक्ट का उद्देश्य ने केवल नदी को जीवित करना है बल्कि खुला और हरियाली क्षेत्र को मनोरंजन के लिए उपयोगी भी बनाना है। उन्होने लिखा कि अभी तक इस प्रोजेक्ट में करीब 300 करोड़ रुपए का काम किया जा चुका है।

river

यह भी पढ़ें: केंद्र की मुहर: द्रव्यवती नदी सहित 8 प्रोजेक्ट्स के लिए केंद्र से मंजूर हुए 1663 करोड़ रुपए

सौन्दर्यन के लिए सेना की अनुमति आवश्यक

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने रक्षा मंत्री अरुण जेटली को मौका स्थिती की जानकारी दी है। उन्होने जेटली से कहा है कि सेना के स्थानीय अधिकारियों को कहें कि वे अनुमति दे, जिससे की मौके पर काम तय समय में पूरा किया जा सके। काम खत्म होने के बाद अगर सेना अनुमति देती है तो लोग इस हिस्से से गुजरने वाली रीवर फ्रंट पर घूम सकेंगे।

यह भी पढ़ें: विकास की राह पर अब दौडे़गा जयपुर, 8 प्रोजेक्ट्स के लिए पहली बार मिलेंगे 1500 करोड़

यह हैं वर्तमान स्थिती

3.5 किलोमीटर लंबा एरिया है जहां काम शुरू करना है। जेडीए ने सेना को काफी पहले ही सर्वे और सौंदर्यन करने का पत्र सौंप दिया था। लंबी प्रक्रिया के बाद सेना की सर्वे करने की अनुमति मिली। सौन्दर्यन को लेकर अनुमति के लिए लंबे समय से बातचीत चल रही है। यहां 150 फीट चौड़ाई में सौन्दर्यन होना है । इस हिस्से में किसी तरह का पार्क, कॉमर्सियल निर्माण नही किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here