sachin-pilot-facebook

राजस्थान में अभी तक अशोक गहलोत को गांधी माना जाता था लेकिन अब सचिन पायलट राजस्थान के राहुल गांधी बन गए है। जिस प्रकार केंद्र में कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी की छवि बनी है ठीक उसी प्रकार राजस्थान में पीसीसी चीफ सचिन पायलट की छवि बन गई है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट समेत पूरी कांग्रेस विश्व पर्यावरण दिवस पर पूरे एक महीने बाद लोगों को हार्दिक शुभकामनाएं दे रही है। भेड़चाल चलने वाले कांग्रेसी भी यह भूल गए कि विश्व पर्यावरण दिवस की शुभकामनाएं देने में वो पूरे एक महीने लेट हो गए है। यानी विश्व पर्यावरण दिवस आता तो 5 जून को है लेकिन पायलट को एक महीने बाद 5 जुलाई को यह ध्यान आया की हमने पर्यावरण दिवस की शुभकामनाएं नही दी सो फेसबुक के जरिए आज लोगों को पर्यावरण दिवस की बधाईयां देने में लगे हुए है। पायलट जी से यही कहना है कि कोई ठीक-ठाक सी सोशल मीडिया टीम रखे जो सर्च करके पोस्ट करें और दस्तक को दस्तखत ना लिखें।

sachin-pilot-joke

मानसून ने दी राजस्थान में दस्तखत- सचिन पायलट

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने अपने फेसबुक पर विश्व पर्यावरण दिवस की शुभकामनाएं देते हुए लिखते है ” विश्व पर्यावरण दिवस पर हार्दिक शुभकामनायें। देश और प्रदेश में मानसून ने दस्तखत दे दी है और इस अवसर पर मैं समस्त देशवासियों से अपील करूँगा कि एक पेड़ ज़रूर लगाये। आज पर्यावरण को सबसे बड़ा खतरा बढ़ते हुए शहरीकरण से है और यह हम सब की नैतिक ज़िम्मेदारी है कि पर्यावरण की सुरक्षा करे ”  इस पोस्ट में लिखा गया है कि देश और प्रदेश में मानसून ने दस्तखत दे दी है। पायलट जी एक बार दस्तखत लिखने से पहले देख तो लेते कि मानसून दस्तक देता है ना कि दस्तखत।

भेड़चाल कांग्रेसियों ने भी मनाया 5 जुलाई को विश्व पर्यावरण दिवस

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष के ऐसे फेसबुक पोस्ट करने के बाद भी किसी कांग्रेस ने उन्हे यह बताने की जरूरत नही समझी कि यह दिन 5 जून को आता है आज नही। कांग्रेसियों को शायद यह भी पता नही है कि आज विश्व पर्यावरण दिवस नही है। एक बार पोस्ट करने से पहले किसी का फेसबुक पेज ही चैक कर लेते। ऐसे ही उनके कांग्रेसी चेले-चपाटे हैं जो बिना ध्यान दिए अंधों की तरह नीचे गर्दन कर चले जा रहे है। पेड़ों को बचाने की अपील तो पायलट जी बाद में करना पहले अपने आप को ठीक कीजिए, अपनी मातृभाषा हिंदी को ठीक कीजिए। आप एक प्रदेश की 7 करोड़ जनता का नेतृत्व करने का सपना संजोए बैठे है लेकिन जब तक आपके पास आपके भेड़चाल चलने वाले चेले है तब तक यह सपना पूरा नही हो सकता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here