Royal Enfield

देसी हार्ले—डेविडसन यानि रॉयल एनफिल्ड की बुलट, जिसकी भुड—भुड़ की आवाज किसी को भी पीछे मुड़कर देखने पर मजबूर कर दे। अगर भारतीयों पर एक सर्वे किया जाए और पूछा जाए कि उनकी सबसे पसंदीदा मोटरसाइकिल कौनसी है तो एक ही जवाब आएगा। मिड परसनेले​टी वाले लड़कों पर भी इस बाइक का अलग ही स्वैग है। ‘जब बुलेट चले तो दुनिया रास्ता दे’ जैसे विज्ञापनों ने इस बाइक की लोकप्रियता को और बढ़ाने का काम किया। लेकिन कुछ ऐसी भी वजह हैं जिनकी वजह से यह बाइक नहीं खरीदे जाने का मश्वरा दिया जाता है। आखिर कौनसी हैं वह खामियां, आइए जानते हैं …. Royal Enfield

भारी वजन सबसे बस की बात नहीं Royal Enfield

बुलेट की सबसे बड़ी समस्या उसका वजन है। बुलेट कम से कम 200 किलो की है जिसे सहन करना हर किसी के बस की बात नहीं है। एक बार किसी भी वजह से यह गिर जाए या स्लिप हो जाए तो हर कोई ऐरा—गैरा इसे उठा नहीं सकता। हां, अगर आप अच्छे—खासे बॉडी बिल्डर है तो कोई दिक्कत नहीं होगी। Royal Enfield

Read More: Rajasthan government to preserve Chittorgarh fort and the Vijaya Stambha

हाईवे पर नहीं है कम्फर्ट Royal Enfield

हाईवे पर बुलेट की 70 की स्पीड से ऊपर आरामदेह सवारी नहीं रह जाती। उंची व हार्ड सीट लंबे सफर के लिए कतई भी ठीक नहीं है। क्रूज़र बाइक होने की वजह से लंबे रूट पर हाथों में दर्द होना स्वभाविक है। ठंड के मौसम में अगर सैल्फ स्टार्ट काम न करे तो किक पे किक मारने के लिए अपने आप को तैयार कर लें। Royal Enfield

कम माइलेज बड़ी समस्या

बुलेट का कम माइलेज एक बड़ी परेशानी है जो रोजमर्रा में दिक्कतें खड़ी कर सकती है। बुलेट केवल 35 किमी प्रति लीटर का माइलेज देती है जो काफी कम है। पेट्रोल टैंक छोटा होने की वजह से लंबे रूट पर यह फायदेमंद कम है।

महंगी है लेकिन आॅप्शन और भी है मौजूद

बुलेट एक भारी भरकम बाइक होने के साथ महंगा सौदा भी है। फीचर्स काफी कम हैं और लुक भी इतना अच्छा नहीं है। लेकिन आपको स्वैग के साथ लड़कियों पर अपना प्रभाव जमाना है इससे बेहतर लुक वाली बाइक कोई और नहीं। लेकिन अगर आप इसी कीमत में कोई अच्छी बाइक चाहते हैं तो बाजार में मौजूद आॅप्शन की कमी भी नहीं है।

मेन्टिनेंस व सर्विस महंगी है

बुलेट को मेन्टेन करना हर किसी के बस की बात नहीं है। हालांकि यह एक टफ क्रूज़र है लेकिन फिर भी इसी मेन्टिनेंस थोड़ी महंगी पड़ती है। हर कोई ऐरा—गैरा बुलेट का मैकेनिक नहीं बन सकता। बीच रास्ते अगर कोई खराबी आ जाए तो उसे थोड़ी दूर तक घसीटना पहाड़ उठाने जैसा है। चैन उतरने की समस्या आम तौर पर इसमें देखी जाती है जो परेशानी का सबब बन सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here