राजस्थान देश का सबसे समृद्ध राज्य हैं। भाजपा सरकार की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के नेतृत्व में प्रदेश की सभी 36 कौमों ने विकास किया हैं। राजस्थान आज समाज विशेष ना होकर विकास विशेष की और अग्रसर हैं। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के प्रयासों से प्रदेश की सभी कौमों और जातियों को साथ लेकर चलने का कार्य किया जा रहा हैं। राजस्थान में क्षत्रिय समाज हमेशा से ही भाजपा की रीढ़ रहा हैं। क्षत्रिय समाज ने हमेशा से भाजपा को बिना किसी स्वार्थ के समर्थन दिया है। इसके बदले राजस्थान की यशस्वी मुख्यमंत्री ने क्षत्रिय राजपूत समाज का विकास और उन्हे पुन: राजस्वी दर्जा देने का कार्य़ किया हैं। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने राजपूत समाज के लोगों को विशेष तरजीह दी हैं। सूबे की महामहिम प्रदेश की सभी जातियों, समाजों का समान विकास चाहती हैं किसी एक जाति विशेष की राजनीति करना मुख्यमंत्री राजे की पहचान नही हैं । सभी जातियां और समाज मुख्यत: अलग अलग हैं लेकिन विकास के नाम पर सभी जातियां एक हैं। इन सभी के विकास से ही मुख्यमंत्री राजे के सपनों का राजस्थान तैयार हो रहा हैं।

राजपूत समुदाय का कुछ अंश करता हैं भाजपा सरकार का विरोध

राजस्थान में राजपूत समुदाय का एक हिस्समा मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की नीतियों से असंतुष्ट हैं जिससे वे राजस्थान सरकार पर दोषारोपण एवं  सरकार विरोधी गतिविधियां करते हैं। समाज में कई स्थानीय नेता राजनीति से प्रेरित होकर इस प्रकार के कार्य करते हैं लेकिन मुख्यमंत्री राजे ने राजपूत समुदाय को हर क्षेत्र में पूरा सहयोग दिया हैं। मुख्यमंत्री राजे प्रदेश की सभी कौमों के साथ समान हैं। स्थानीय समाज के नेता जनता को आपस में अलग करने का कार्य केवल अपनी स्वार्थ सिद्धी के लिए करते हैं लेकिन आगे चलकर सभी समाजों के नेता एक हैं। राज्य सरकार सभी समाज एवं समुदायों के लिए समान भाव रखती हैं ऐसे में प्रदेश में बिना भेदभाव के सभी जातियों का सभी कौमों का विकास समान होगा। किसी भी जाति विशेष के लिए प्रदेश सरकार स्वार्थ पूर्वक कार्य करने के लिए बाध्य नही हैं।

क्षत्रिय समुदाय राजस्थान का गौरव

मुख्यमंत्री राजे ने राजस्थान का समान विकास करने का प्रण किया हैं ऐसे में किसी एक जाति विशेष के लिए राज्य सरकार स्वार्थपरकर कार्य नही कर सकती। राजस्थान सरकार की नीतियों से सभी जातियों का समान विकास होगा इनमे राजपूत समाज भी शामिल हैं। समाज के भिन्न भिन्न स्थानीय नेताओं के बरगलाने पर समाज के लोग राज्य सरकार का विरोध नही करते हैं। राजस्थान का राजपूत समाज प्रदेश का गौरव हैं जिसका मुख्यमंत्री राज भी सम्मान करती हैं लेकिन स्थानीये नेताओं के कारण समाज में आपसी कलह बढ़ रही हैं और ये सभी नेता अपनी रोटियां समाज के नाम पर पकाते हैं अंदर से सभी लोग एक हैं। अत: समाज के लोगों का विकास खुद के हाथों में है। मुख्यमंत्री राजे ने प्रदेश के सभी लोगों के हित के लिए कई योजनाएं चलाई हैं जिनका सभी लाभ ले सकते हैं। इससे कोई भी समाज के लोग पिछड़ेंगे नही औऱ विकास की मुख्यधारा में रहेंगे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here