ring road jaipur

राजधानी जयपुर के लिए एक सपना बनी रिंग रोड़ को अब जल्द ही धरातल पर देख सकेंगे। करीब 5 सालों से अटकी पड़ी जेडीए की रिंग रोड़ परियोजना को एक बार फिर से गति मिलेगी। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के अथक प्रयासों के बाद अब रिंग रोड़ परियोजना में आ रही बाधाओं को जल्द ही दूर किया जा सकेगा। जयपुर की जनता को यातायात के दबाव से बचाने के लिए रिंग रोड़ परियोजना को लेकर राज्य सरकार गंभीर है। राजस्थान सरकार के इस प्रोजेक्ट में केंद्र सरकार हर संभव कोशिश कर रही है। राजे सरकार ने अब राजधानी के इस महत्वकांक्षी प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए इसकी कमान नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया को सौंप रही है। राजस्थान सरकार और (एनएचएआई) के बीच करार को मंजूरी मिल गई है।

Also Read: Finally the ring road project is back on track

शहरी विकास मंत्रालय से मिल चुकी है मंजूरी

आपको बतादें कि हाल ही में रिंगरोड़ के लिए गठित सेटलमेंट कमेटी की ओर से रिंग रोड़ की अनुबंधित फर्म व जेडीए के ओर से पेश किए दावे को शहरी विकास मंत्रालय ने मंजूदी प्रदान की थी । इस मंजूरी के ब द रिंगरोड़ के ड्राप्ट को केंद्रीय मंत्री को मंजूरी के लिए भेजा गया था। केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नीतिन गड़करी ने पिछले दिनों राजस्थान के दौरे पर रिंग रोड़ को नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया से बनवाने में सहायता करने का आश्वाशन दिया था जिसके चलते रिंगरोड़ का यह प्रोजेक्ट हाल ही में एनएचएआई को दिया जा रहा है। बताया जा रहा है कि इस एमओयू के बाद इसी महीने से एनएचएआई द्वारा रिंग रोड़ निर्माण की प्रक्रिया से जुड़ी कार्यवाही शुरी की जा सकती है।

Read More: काम शुरू होते ही 15 महीने में पूरा होगा जयपुर का ड्रीम प्रोजेक्ट: जनवरी 2019 तक तैयार हो जाएगी रिंग रोड

मुख्यमंत्री राजे और मंत्री कृपलानी खासे उत्साहित

राजधानी जयपुर के विकास से जुड़ा रिंग रोड़ प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और शहरी विकास मंत्री श्रीचंद कृपलानी बेहद गंभीर दिखाई दे रहे है। राजस्थान सरकार का यूडीएच विभाग रिंग रोड़ प्रोजेक्ट को लेकर एनएचएआई से अपनी सभी जरूरी आवश्यकता को पूरी कर चुका है। शासन सचिवालय में एनएचएआई के साथ सरकार ने एमओयू कर पूरी जिम्मेदारी के साथ इस प्रोजेक्ट को अमलीजामा पहनाने की कवायदों में लगी हुई है। एनएचएआई भी अनुबंधित कंपनी सेनजोस सुप्रीम टॉलवेज डवलपमेंट कंपनी के तरह ही 60 मीटर चौड़ाई में ही काम करने की प्रक्रिया शुरू कर देगी। इसमें मुख्य तौर पर कैरिज-वे (जहां से वाहन गुजरेंगे) बनेगा। जबकि रिंग रोड की चौड़ाई 90 मीटर (ट्रांसपोर्ट कॉरिडोर) ही होगी। बाकी 30 मीटर में यूटिलिटी डक्ट, बीआरटीएस-एमआरटीएस पहले से ही प्रस्तावित है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here