राजस्थान सरकार ने युवाओं को आगे बढ़ाने के लिए कई योजानाओं को संचालन किया हैं। मुख्यमंत्री राजे का विजन हैं कि राजस्थान का विकास युवा के साथ हो, इस उद्देश्य से यूथ को आगे लाने में कोई कोर-कसर नही छोड़ी जा रही हैं। हाल ही में मुख्यमंत्री राजे ने प्रदेश के होनहार बच्चों को निशुल्क कोचिंग देने की योजना का ऐलान किया थी जिससे कई बच्चों को आईआईटी और आईआईएम जैसे संस्थानों में जाने का मौका मिला। इस बार भी मुख्यमंत्री राजे ने प्रदेश के छात्रों को भारतीय प्रशासनिक सेवा में जाने एक अवसर दिया हैं। मुख्यमंत्री राजे ने सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी का आईएएस में चयन होने पर 50 हजार रुपए देने की घोषणा की हैं। इस योजना से प्रदेश के अभ्यर्थियों को आगे बढ़ने का उत्साह मिलेगा।

एक मुश्त मिलेगी 50 हजार की राशि

राजस्थान के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग द्वारा राजस्थान के मूल निवासी सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी का भारतीय प्रशासनिक सेवा आईएएस, आईपीएस और आईएफएस सेवा में अंतिम रूप से चयन होने पर वरियता वार प्रथम 50 प्रतियोगियों को 50 हजार की एक मुश्त सहायता राशि दी जाने की योजना लागू की हैं। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. अरुण चतुर्वेदी ने बताया कि मुख्यमंत्री द्वारा वर्ष 2017-18 के बजट घोषणा की अनुपालना में सहायता राशि दी जाएगी।

इन अभ्यर्थियों को मिलेगी सहायता राशि, RAS के अभ्यर्थी को मिलेंगे 30 हजार

योजना की जानकारी देते हुए मंत्री चतुर्वेदी ने बताया कि अभ्यर्थी के माता-पिता और अभिभावकों की वार्षिक आय ढाई लाख से अधिक होने पर और राजकीय सेवा में कार्यरत अभ्यर्थी को इस योजना का लाभ नहीं दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि इन परीक्षाओं में चयन होने के बाद आवेदन करने के 2 महीने की अवधि में सहायता राशि स्वीकृति की जाएगी। इसी प्रकार राजस्थान प्रशासनिक सेवा की सभी सेवाओं में चयन होने वाले सामान्य वर्ग के 100 अभ्यर्थियों को वरीयता वार 30 हजार रुपए प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी।

एक हजार प्रतिभावान बच्चों को कोचिंग करवा रही हैं राज्य सरकार

इससे पहले राजस्थान सरकार ने मुख्यमंत्री निशुल्क कोचिंग योजना के तहत एक हजार प्रतिभावान बच्चों को सालाना 60 हजार रुपए की सहायता देने की घोषणा की थी। सरकार छात्रों को आई.आई.टी., आई.आई.एम., विधि, राष्ट्रीय स्तर के मेडिकल कॉलेज एवं राष्ट्रीय तकनीकी संस्थान के लिए निशुल्क कोचिंग करा रही हैं। सामाजिक अधिकारिता विभाग के छात्रावासों में आवासरत अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग व विशेष पिछड़ा वर्ग एवं सामान्य वर्ग के प्रतिभावान अभ्यर्थियों को अनुप्रति योजनान्तर्गत सूचीबद्ध इन संस्थाओं में प्रवेश लेने के लिए निःशुल्क कोचिंग करवा रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here