मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के सहयोग से अब रूपा बनेगी डॉक्टर

कहते हैं कि ”जहाँ प्रयास है वहां आस है।” कुछ इसी लीक पर चलकर राजस्थान की बेटी रूपा अब डॉक्टर बनने वाली है। परेशानियां लाख आई लेकिन सब बाधाओं को पार कर आगे बढ़ने की कहानी है रूपा की। रूपा के डॉक्टट बनने में आ रही बाधाओं का जब सरकार को पता चला तो मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने आगे आकर रूपा यादव की मदद की। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के संवेदनशील और समझदारी भरे निर्णय की बदौलत अब रूपा यादव डॉक्टर बनकर देश और प्रदेश की सेवा कर पाएगी। गरीब परिवार की बेटी रूपा का विवाह आठ साल की उम्र में हो गया था। छोटी उम्र से ही पारिवारिक ज़िम्मेदारियों से बंधने वाली रूपा ने विपरीत परिस्थितियों में भी शिक्षा प्राप्त कर आगे बढ़ने का जज़्बा दिल में कायम रखा। परिवार की कमज़ोर आर्थिक स्थिति जब रूपा को आगे बढ़ने से रोक रही थी उस समय मुख्यमंत्री राजे ने तत्काल प्रभाव से काम कर उसे आगे बढ़ाया।

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के सहयोग से अब रूपा बनेगी डॉक्टर

एमबीबीएस में चयन हुआ लेकिन मुश्किलें कम नहीं हुई

बाल विवाह का दंश झेलने के बाद भी रूपा ने पढ़ाई की ललक बनाई रखी। मेहनत कर डॉक्टर बनने के लिए पात्रता परीक्षा पास की। एमबीबीएस पाठ्यक्रम के लिए बीकानेर के सरदार पटेल मेडिकल कॉलेज में प्रवेश मिला। अच्छे अंकों से एमबीबीबीएस में प्रवेश लेने के बावजूद रूपा की मुश्किलें कम नहीं हुई। अब उसे कॉलेज की पढ़ाई, किताबों और रहने-खाने के खर्च से परेशान होना पड़ा। इन सब पर होने वाला व्यय वहन करना रूपा और उसके परिवार के लिए बड़ा भारी था। ऐसे समय में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने खुद इस बात को समझकर रूपा की पढ़ाई की ज़िम्मेदारी ली। उन्होंने त्वरित ही रूपा की मदद करने के लिए प्रशासन को निर्देश दिए।

Read More: Women put in double efforts for success: CM Raje said at Bhaskar Women of the Year Award 2017 event

मुख्यमंत्री राजे के निर्देश पर बीकानेर कलेक्टर अनिल गुप्ता कार्रवाई करते खुद ही रूपा के कॉलेज जाकर उससे मिले। कलेक्टर ने स्थिति की पूरी जानकारी लेते हुए रूपा की एमबीबीएस की पढ़ाई निःशुल्क करवाई। मुख्यमंत्री राजे के निर्देश पर कलेक्टर ने रूपा की पुस्तकों एवं उसके रहने के लिए हॉस्टल की सम्पूर्ण व्यवस्था निःशुल्क करवाने के लिए कॉलेज के प्राचार्य डॉ आर.पी.अग्रवाल को आदेश दिया। रूपा से बैंक खाता खुलवाने के लिए भी कहा ताकि भविष्य में भी शिक्षा पर व्यय होने वाली राशि उसे उपलब्ध करवाई जा सके।

मुख्यमंत्री राजे की सोच और संवेदनशीलता ने आगे बढ़ने को प्रेरित किया

सरकार से हर तरह की सहायता मिलने के बाद रूपा ने कहा कि ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ की संकल्पना के साथ मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के इस निर्णय की बदौलत अब वह डॉक्टर बन सकेगी। रूपा ने कहा कि सरकार द्वारा प्राप्त इस सहायता को वह हमेशा याद रखेगी। रूपा ने कहा कि मुख्यमंत्री राजे की सकारात्मक सोच और संवेदनशीलता के कारण ही वह आगे बाद पाएगी। अपनी पढ़ाई को सुचारु रखने के लिए रूपा मुख्यमंत्री राजे की आभारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here