rajasthan bjp cm vasundhara

सभी को पता है कि राजस्थान उपचुनावों में भारतीय जनता पार्टी की कांग्रेस के मुकाबले 3—0 से हार हुई है। उपचुनाव आगामी विधानसभा चुनावों के लिए एक सेमीफाइनल है इसलिए यह एक बड़ा झटका है। लेकिन इसके बाद भी मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे झुकी नहीं है और न ही आगे झुकेंगी। मुख्यमंत्री एक बार फिर से तैयार हैं आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारियों के लिए। लेकिन भविष्य को देखते हुए मुख्यमंत्री को आने वाले समय में कुछ ​कठिन निर्णय लेने पड़ सकते हैं। कौन से हैं वे 5 कठिन फैसले, आइए जानते हैं … Rajasthan BJP CM Vasundhara

Read more: हार का भाजपा कर रही सूक्ष्म विश्लेषण: बदलाव के आसार 

  1. स्थानीय नेताओं को मिल सकता है मौका Rajasthan BJP CM Vasundhara

आगामी विधानसभा चुनावों में बड़े नाम और चेहरों की जगह स्थानीय नेताओं को मौका दिया जा सकता है जो जनता में अपनी छवि और पैठ रखते हों। पार्टी के कुछ बड़े कार्यकर्ताओं को भी इस लिस्ट में शामिल किया जा सकता है। ऐसे में पार्टी के कुछ नेताओं का नाम विधानसभा चुनावों में पार्टी प्रत्याशियों की लिस्ट से साफ हो सकता है। Rajasthan BJP CM Vasundhara

  1. मंत्रियों के विभागों में हो सकता है फेरबदल Rajasthan BJP CM Vasundhara

उपचुनावों के परिणामों को देखते हुए कुछ मंत्रियों के विभागों में फेरबदल जल्दी ही देखने को मिल सकता है। अच्छी छवि रखने वाले विधायकों को नई जिम्मेदारियां भी दी जा सकती हैं। कुछ मंत्रियों से विभाग छीने भी जा सकते हैं।

  1. नई चुनावी रणनीतियों पर होगा मं​थन Rajasthan BJP CM Vasundhara

मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे अब नई चुनावी रणनीतियों पर सोच—विचार कर सकती हैं। चुनावी प्रचार के लिए नई योजनाएं बना उन पर क्रियान्वयन शुरू हो सकता है। कुछ नए व कठिन फैसले भी इस दौरान सामने आ सकते हैं।

  1. कुछ बड़े नेताओं को मिल सकता है आराम Rajasthan BJP CM Vasundhara

पूर्व सांसद स्व.सांवरलाल जाट के पुत्र रामस्वरूप लांबा को अजमेर लोकसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर टिकट दिया गया था। खुद मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे उनके लिए वोट मांगती नजर आईं थी। जाट नेता के साथ पिता के निधन की सांत्वना के बाद भी लांबा विपक्षी से 86 हजार से अधिक वोटों से हार गए। यहां तक की अजमेर की सभी 8 विधानसभा सीटों पर भी पीछे रह गए। परिणामों को देखते हुए आगामी विधानसभा चुनावों से रामस्वरूप लांबा को दूर रखा जा सकता है। अलवर में अपने गृह क्षेत्र बहरोड़ से अपनी सीट न बचा पाने वाले जसवंत सिंह के बारे में भी संयश बरकरार है। Rajasthan BJP CM Vasundhara

  1. खुद संभाल सकती हैं चुनावी प्रचार की जिम्मेदारी

हालांकि उपचुनावों में मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने खुद जमकर चुनावी प्रचार किया था। लेकिन परिणाम आशा के अनुरूप नहीं आए। अब आगामी विधानसभा चुनावों में चुनावी प्रचार की पूरी की पूरी जिम्मेदारी मुख्यमंत्री खुद अपने कंधों पर ले सकती हैं। साथ ही अन्य नेताओं व कार्यकर्ताओं को जनता के बीच रहकर उनकी नब्स टटोलने और कार्य करने के लिए कहा जा सकता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here