nitish-kumar

देश भर में कांग्रेस एक गहरे संकट से जूझ रही है जिसमें सबसे बड़ा संकट है राष्ट्रीय नेतृत्व का। कांग्रेस को मौजूदा त्रासदियों से उबारने का एक ही हल बताया जा रहा है वो है नेतृत्व परिवर्तन। वर्तमान दौर कांग्रेस का सबसे बुरा दौर माना जा रहा है। मौजूदा परिस्थितियों में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस नेतृत्व, सत्ता, शासन जैसे सभी मुद्दों पर कमजोर सिद्ध हो रही है। कांग्रेस के दिग्गज नेताओं ने भी कई बार आंतरिक रूप से नेतृत्व परिवर्तन की बात कही है लेकिन कोई खुलकर सामने नही आ रहा । ऐसे में देश के जाने-माने इतिहासकार रामचंद्र गुहा का मानना है कि कांग्रेस को वर्तमान संकट से उबरने का एक ही उपाय है ये एकमात्र रास्ता कांग्रेस का नेतृत्व परिवर्तन है। गुहा का मानना है कि कांग्रेस को अगर देश में फिर से अपनी स्थिती को सुधारना है तो बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पार्टी का अध्यक्ष बनाना चाहिए।

नेतृत्व विहीन पार्टी, पार्टी विहीन नेता

इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने अपनी पुस्तक ‘गांधी के बाद भारत’ के 10 साल पुरे होने पर एक विशेष संस्करण के विमोचन में यह कहा कि वो आने वाले समय में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की कल्पना करते है। उन्होने कहा कि अगर भविष्य़ में कभी ऐसा होता है तो वो दिन कांग्रेस के सुनहरे दिन होंगे। कार्यक्रम के दौरान गुहा ने कहा कि कांग्रेस इस समय देश में नेतृत्व विहीन पार्टी है तो दूसरी तरफ नीतीश कुमार बिना पार्टी के नेता है।

गुहा ने कांग्रेस को सोचने पर किया मजबूर

रामचंद्र गुहा के इस बयान ने कांग्रेस को सोचने पर तो मजबूर कर ही दिया है साथ ही कांग्रेस के उन नेताओं को बोलने का मौका दिया है जो सालों से कांग्रेस में नेतृत्व परिवर्तन की मांग कर रहे थे। गुहा ने जदयू अध्यक्ष कुमार को स्वभाविक नेता बताते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की तरह नीतीश पर भी कोई पारिवारिक भार नही है और साधारण भारतीय नेताओं के विपरीत गुणों से भरे है। ऐसे में कांग्रेस की कमान नीतीश कुमार के हाथों में देने से कांग्रेस को बेहतर भविष्य की ओर ले जाया जा सकता है।

नीतीश बचाएंगे कांग्रेस की डूबती नैय्या

रामचंद्र गुहा के अनुसार कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी अब कमान संभालने में असफल सिद्ध हो रही है। राहुल गांधी को अगर इस लंगड़ाते हुए घोड़े की लगाम सौंप दी जाती है तो शायद इसका अस्तित्व भी खतरें में पड़ सकता है और सोनिया गांधी के लिए राजनीति में कोई जगह नही बचेगी। गुहा का मानना है कि नीतीश कुमार कांग्रेस की डूबती नैय्या को बचा सकते है। जिस प्रकार मोदी और अमित शाह की जोड़ी ने भगवा को चोटी पर लहराया है ठीक उसी प्रकार नीतीश में क्षमता रखने वाले व्यक्ति है।

नेहरू, इंदिरा चले गए अब सोनिया का जाना भी तय

गुहा ने कहा कि कांग्रेस का पतन इसलिए भी चिंताजनक है, क्योंकि एक दलीय व्यवस्था लोकतंत्र के लिए हानिकारक है। इस एक दलीय व्यवस्था ने जवाहरलाल नेहरू जैसे महान लोकतांत्रिक नेता को भी अहंकारी बना दिया। इंदिरा गांधी जैसी अधिनायकवादी को और ज्यादा अधिनायकवादी बना दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here