ghanshyam-tiwari

भाजपा विधायक और दीनदयाल वाहिनी के प्रदेशाध्यक्ष घनश्याम तिवाड़ी ने रविवार को राजस्थान मंत्री वेतन विधेयक में पूर्व मुख्यमंत्रियों की दी जाने वाली सुविधाओं के खिलाफ घर से बंगला नंबर 13 के बाहर सत्याग्रह के लिए कूच किया, लेकिन पुलिस ने उन्हे सोड़ाला से पहले रामनगर मेट्रो स्टेशन के पास ही सीआरपीसी की धारा 129 में गिरफ्तार कर लिया, बाद में उन्हे जालूपुरा थाने लाकर उनके सरकारी विधायक आवास के बाहर ले जाकर छोड़ दिया।

घनश्याम से धनश्याम कैसे बने तिवाड़ी: रोहिताश्व

घनश्याम तिवाड़ी के मुख्यमंत्री आवास पर धरना देने के मामले में अन्तरराज्यीय जल वितरण विवाद समीक्षा कमेटी के अध्यक्ष रोहिताश्व शर्मा ने एक बयान जारी कर कहा कि मैने पहले ही कहा था कि नोटंकीबाज सांगानेर विधायक घनश्याम तिवाड़ी घड़ी-घड़ी ड्रामा करते है। जनता की नज़रों में जीरों हो चुके तिवाड़ी ने मीडिया में हीरों बनने के लिए ड्रामा ही किया, लेकिन पुलिस ने उन्हे गिरफ्तार नही कर उनके सपनों पर पानी फेर दिया। पुलिस ने तो सिर्फ उन्हे मुख्यमंत्री आवास नही जाने दिया, जहां हर समय धारा 144 लगी रहती है।

अकूत संपति का हिसाब दे धन-श्याम तिवाड़ी

शर्मा ने कहा कि तिवाड़ी यह सब ड्रामेबाजी इसलिए कर रहे है ताकि उनकी अकूत संपति का मुद्दा दब जाए,लेकिन आज भी जनता जानना चाहती है कि उनके पास वो कौनसा पारस का पत्थ है जै जिससे वे एक दिन में ही घनश्याम से धनश्याम बन गए। एक माह से मैं और राजस्थान की जनता उनसे सवाल कर रही है कि जब वे जयपुर में आए थे तब उधारी की एक टूटी हुई जंग लगी साइकिल से चमचमाती ऑडी कार, अरबों रुपयों की जमीन और कई आलीशान बंगलों तक का सफर किस जादू की छड़ी के चलते पूरा किया। शर्मा ने कहा कि क्या कांग्रेस के एक जादूगर नेता ने उन्हे ये गुर सिखाएं है जिनके इशारे से वे बीजेपी को जड़ से मिटाने का असफल प्रयास कर रहे है।

News Source: Dainik Navjyoti

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here