Mukundra Hills

राजस्थान में रणथम्भौर टाइगर रिजर्व के बाघ आरटी-91 को 3 अप्रैल को मुकुन्दरा हिल्स राष्ट्रीय उद्यान में छोड़ दिया गया है। बाघ की सुरक्षा के मद्देनजर इसे यहां लाया गया हैं। बाघ आरटी-91 कोटा के मुकुन्दरा के दरा रेन्ज में 28 हेक्टेयर में बने सॉफ्ट इन्क्लोजर में स्थानांतरित किया गया है। Mukundra Hills

अधिक जानिए: क्या पायलट का रास्ता साफ कर दिया है राहुल गांधी ने, क्या कहा सचिन ने?

आरटी-91 कुछ समय से रणथम्भौर टाइगर रिजर्व से निकलकर बूंदी जिले के बाहरी वन क्षेत्रों और आबादी वाले इलाकों में विचरण कर रहा था। इससे क्षेत्र के लोगों में भय का वातावरण बना हुआ था। साथ ही बाघ की सुरक्षा को भी खतरा पैदा हो गया था। हाल ही में अवैध शिकारी बाघ का शिकार करने की फिराक में घूम रहे थे। हालांकि इनको वन विभाग की टीम ने समय रहते गिरफ्तार कर लिया था। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए और विस्तृत विचार-विमर्श के बाद यह तय किया गया था कि बाघ आरटी-91 को अन्यत्र जगह पर सुरक्षा की दृष्टि से भेजा जाना चाहिए। Mukundra Hills

आरटी—91 के आने से क्षेत्र का वन्य जीवन समृद्ध होगा Mukundra Hills

राजस्थान में प्रजातियों के दीर्घकालीन संरक्षण के तहत मुकुन्दरा में बाघ आरटी-91 को भेजना काफी सही कदम माना जा रहा है। बताया जा रहा है कि मुकुन्दरा पहाड़ी राष्ट्रीय उद्यान में इस बाघ के आ जाने से इस क्षेत्र का वन्य जीवन और समृद्ध होगा। मुकुन्दरा में बाघ के सफल स्थानांतरण से बाघों के लिये नए क्षेत्र विकसित करने की संभावना बढ़ गई है। Mukundra Hills

मुख्यमंत्री राजे ने हाड़ौती निवासियों को दी बधाई

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने हाड़ौती क्षेत्र के निवासियों को बाघ आरटी-91 को मुकुन्दरा हिल्स नेशनल पार्क में सफलतापूर्वक स्थानांतरण किए जाने पर बधाई दी है। मुख्यमंत्री राजे ने रणथंभौर टाइगर रिजर्व, मुकुंदरा हिल्स नेशनल पार्क और रणथंभौर के ग्राम वन्यजीव पहरेदारों के संयुक्त प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि आज का दिन वन्यजीव संरक्षण के इतिहास में सुनहरे तौर पर जाना जाएगा। राजे ने कहा कि पारिस्थतिकी तंत्र की सुरक्षा और संरक्षण की जिम्मेदारी हाड़ौती क्षेत्र के लोगों को निभानी होगी। Mukundra Hills

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here