Worlds Sixth Largest Economy
Worlds Sixth Largest Economy

2014 के आम चुनाव में ऐतिहासिक जीत के साथ पहली बार केन्द्र में बीजेपी की पूर्ण बहुमत की सरकार बनीं। इस चुनाव के हीरो रहे गुजरात के उस समय मुख्यमंत्री और वर्तमान में देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी। मोदी का जादू देशभर में चला और बीजेपी को इस बार किसी से गठबंधन की जरूरत नहीं पड़ी। Worlds Sixth Largest Economy

प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश के अन्य देशों से रिश्ते मजबूत हुए, यही वजह है कि देश में ​निवेश भी बड़ा और अर्थव्यवस्था मजबूत हुई है। इस बात की गवाह बनीं है वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट। आइये जानते हैं विश्व बैंक की भारत को लेकर रिपोर्ट…

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने पिछले चार साल में देश की तरक्की के लिए जो रिफॉर्म्स किए हैं उनका असर अब दिख रहा है। इन रिफॉर्म्स के दम पर ही आज भारत दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाली इकोनॉमी में शुमार हो गया है। वर्ल्ड बैंक की हालिया ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, भारत अब दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बन गया है।

Read More: 15 अगस्त तक केन्द्रीय और राज्य कल्याण योजनाओं के साथ लाभार्थियों को लिंक करें: वसुंधरा राजे

भारत ने नंबर छह पर लंबे समय से काबिज फ्रांस को पीछे छोड़कर यह मुकाम हासिल किया है। वर्ल्ड बैंक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत की GDP (सकल घरेलू उत्पाद) पिछले साल के आखिर में 2.597 ट्रिलियन डॉलर (178 लाख करोड़ रुपए) रही, जबकि फ्रांस की 2.582 ट्रिलियन डॉलर (177 लाख करोड़ रुपए) रही। कई तिमाहियों की मंदी के बाद भारत की अर्थव्यवस्था जुलाई 2017 से फिर से मजबूत होने लगी। Worlds Sixth Largest Economy

जुलाई 2017 के बाद मजबूत हुई देश की अर्थव्यवस्था

रिपोर्ट के अनुसार, जुलाई 2017 के बाद भारत की अर्थव्यवस्था तेजी से मजबूत हुई है। देश की इस समय आबादी करीब 1.34 अरब यानी 134 करोड़ है और यह दुनिया का सबसे ज्यादा आबादी वाला देश बनने की दिशा में अग्रसर है। उधर, फ्रांस की वर्तमान में आबादी 6.7 करोड़ है। वर्ल्ड बैंक के आंकड़ों के मुताबिक, फ्रांस की प्रति व्यक्ति जीडीपी भारत से 20 गुना ज्यादा है। प्रति व्यक्ति जीडीपी के मामले में फ्रांस फिलहाल भारत से कई गुना ज्यादा बेहतर है। Worlds Sixth Largest Economy

2032 तक तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है भारत

वर्ल्ड बैंक ग्लोबल इकोनॉमिक्स प्रॉस्पेक्टस रिपोर्ट के मुताबिक, नोटबंदी और जीएसटी के बाद आई मंदी से भारत की अर्थव्यवस्था लगातार उबर रही है। नोटबंदी और जीएसटी (माल एवं सेवा कर) के कारण दिखे ठहराव के बाद पिछले साल मैन्युफैक्चरिंग और उपभोक्ता खर्च भारतीय अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के प्रमुख कारक रहे हैं। Worlds Sixth Largest Economy

एक दशक में भारत ने अपनी जीडीपी को लगभग दोगुना कर दिखाया है। इसके बाद अब संभावना जताई जा रही है कि चीन की रफ्तार धीमी पड़ सकती है और एशिया में भारत प्रमुख आर्थिक ताकत के तौर पर उभर सकता है। विशेषज्ञ उम्मीद जता रहे हैं कि भारत 2032 तक दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है, कम से कम इसी तरह अर्थव्यवस्था रफ्तार चलती है तो।

फिलहाल ये हैं विश्व के टॉप 7 देशों की रैंकिंग

देश                 जीडीपी


अमेरिका          $19.390 ट्रिलियन (1,379 लाख करोड़)

चीन               $12.237 ट्रिलियन (963 लाख करोड़)

जापान            $4.872 ट्रिलियन (351 लाख करोड़)

जर्मनी             $3.677 ट्रिलियन (289 लाख करोड़)

यूके               $2.622 ट्रिलियन (202 लाख करोड़)

भारत              $2.597 ट्रिलियन (178 लाख करोड़)

फ्रांस               $2.582 ट्रिलियन (177 लाख करोड़)


 

ब्रिटेन को भी पीछे छोड़ सकता है भारत Worlds Sixth Largest Economy

​लंदन स्थित कंसल्टेंसी सेंटर फॉर इकनॉमिक्स एंड बिजनेस रिसर्च ने पिछले साल संभावना जताते हुए कहा था कि जीडीपी के लिहाज से भारत ब्रिटेन और फ्रांस दोनों प्रमुख और अपने से ज्यादा बेहतर रैंकिंग वाले देशों को पीछे छोड़ देगा। यही नहीं रिसर्च में यह भी कहा गया कि 2032 तक भारत के दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यव्था बन जाएगा।

2017 के आखिर तक की रिपोर्ट के अनुसार ब्रिटेन 2.622 ट्रिलियन जीडीपी के साथ दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। बता दें, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के अनुसार इस साल भारत की ग्रोथ 7.4 फीसदी रह सकती है और कर सुधार व घरेलू खर्चे के चलते 2019 में भारत की विकास दर 7.8 फीसदी पहुंच सकती है। वहीं, आईएमएफ ने दुनिया की औसत विकास दर 3.9 फीसदी रहने का अनुमान जताया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here