नीमराना में 6 मेगावॉट के सोलर पॉवर प्लांट का लोकार्पण हुआ, मेक इन इंडिया के तहत हुआ निर्माण

एशिया के तकनीकी विकसित देश जापान के सहयोग से दिल्ली-मुंबई औद्योगिक कॉरिडोर विकास निगम (डीएमआईसीडीसी) द्वारा निर्मित किया गया छह मेगावाट के मॉडल सोलर पॉवर प्रोजेक्ट को आज राजस्थान के अलवर ज़िले में स्थित नीमराना कस्बें के औद्योगिक क्षेत्र में प्रारम्भ किया गया। नीमराना जयपुर-दिल्ली हाइवे के मध्य में पड़ने वाला राजस्थान का ऐतिहासिक नगर है। जापान के न्यू एनर्जी एंड इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी डेवपलमेंट ऑर्गेनाइजेशन (एनईडीओ) के सहयोग से बनाए गए इस छह मेगावाट के सोलर प्रोजेक्ट के अंतर्गत, पांच मेगावाट का एक मॉडल सोलर पॉवर प्लांट तथा एक मेगावाट का दूसरा जापानी टेक्नोलॉजी से बना पॉवर प्लांट शामिल है।

थिन फिल्म टेक्नोलॉजी का किया गया इस्तेमाल

इस प्रोजेक्ट में बना हुआ पांच मेगावाट का सोलर पॉवर प्लांट थिन फिल्म टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल पर काम करता है। इसमें पॉवर सप्लाई करने पर सीधी ग्रिड में जाती है। तकनीकी तौर पर देखा जाए तो एक मेगावॉट का स्मार्ट माइक्रो ग्रिड सौर ऊर्जा के लिए पॉली क्रिस्टलाइन टेक्नोलॉजी का उपयोग करता है। इसके साथ दो मेगावॉट का डीजल जनरेटर सेट जुड़ा हुआ है। लोकार्पण होने के बाद से यह प्लांट नीमराना औद्योगिक पार्क में औद्योगिक कंपनियों को बिजली प्रदान करने का काम करेगा।

मेक इन इण्डिया का प्रोजेक्ट है यह

नीमराना में यह सोलर पॉवर प्रोजेक्ट, मेक इन इंडिया के तहत स्थापित किया गया है। औद्योगिक प्रोत्साहन एवं नीति विभाग (डीआईपीपी) के सचिव ने कल नीमराना में जापान के राजदूत केन्जी हिरामात्सु और दोनों देशों के वरिष्ठ अधिकारीयों की उपस्थिति में नीमराना सोलर पॉवर प्रोजेक्ट को राष्ट्र को समर्पित किया। भारत सरकार, मेक इन इंडिया के इस प्रोजेक्ट द्वारा अपने विनिर्माण आधार को बढ़ा रही है। इस प्रोजेक्ट में शामिल सभी श्रम कर्मचारी व संसाधन भारतीय है। यहाँ जापान की तकनीकी का सहयोग लिया गया है। जापान की कंपनी न्यू एनर्जी एंड इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी डेवपलमेंट ऑर्गेनाइजेशन ने भारत में निवेश कर यह प्रोजेक्ट पूरा किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here