राजस्थान किसानों का प्रदेश हैं यहा 60 से 70 फीसदी लोग आज भी खेती पर निर्भर हैं ऐसे में प्रदेश में सबसे ज्यादा अगर विकास की बात आती हैं तो पहले किसानों की स्थिती सुधारने की बात होगी। क्योंकि राजस्थान किसानों के विकास के साथ ही प्रगति की ओर अग्रसर हो सकता हैं। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे किसान हितेषी होने के साथ साथ दूरगामी सोच रखने वाली महिला भी हैं। मुख्यमंत्रा राजे किसानों के हितों को साथ लेकर चलने में विश्वास करती हैं। मुख्यमंत्री राजे ने किसानों के लिए कई योजनाओं को लागू किया हैं किसानों को समृद्ध और उन्नत बनाने के लिए मुख्यमंत्री राजे ने ग्राम जैसे राष्ट्रीय स्तर का आयोजन किया था। हाल ही में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने किसानों के लिए ‘किस्मत योजना(नॉलेज इन्टिग्रेटेड स्किल माड्युल्स फॉर एग्रीकल्चर, हार्टिकल्चर एंड एनीमल हस्बेन्डरी ट्रेनिंग )’ लेकर आई हैं।

क्या हैं किस्मत योजना

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे राजस्थान में किसानों की प्रगति के साथ प्रदेश का विकास करने में विश्वास रखती हैं। राज्य सरकार की ‘किस्मत योजना‘ (नॉलेज इन्टिग्रेटेड स्किल माड्युल्स फॉर एग्रीकल्चर, हार्टिकल्चर एंड एनीमल हस्बेन्डरी ट्रेनिंग )के अन्तर्गत राज्य के किसानों को कृषि, पशुपालन तथा बागवानी से जुड़े क्षेत्रों में कौशल प्रशिक्षित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस योजना के अन्तर्गत किसान को नवीनतम तकनीक से जुड़े क्षेत्रो में प्रशिक्षित किया जाएगा जिससे किसान सशक्त बन सकें। राज्य के प्रत्येक वर्ग में अपने रोजगार के अवसर को उन्नत बनाने के लिए हुनर विकसित हो तथा ‘किस्मत योजना‘ किसानों को अपने हुनर को विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

किस्मत योजना को लेकर हुई थी बैठक

कौशल, नियोजन एवं उद्यमिता विभाग के सचिव रजत कुमार मिश्र की अध्यक्षता में शुक्रवार को बैठक हुई ।  बैठक में शेयरधारकों ने भी हिस्सा लिया जिन्होंने राज्य में किस्मत योजना को संचालन करने में रूचि दिखाई। इस अवसर पर आयुक्त, कौशल, नियोजन एवं उद्यमिता कृष्ण कुणाल ने कहा कि राज्य सरकार की यह सर्वोच्च प्राथमिकता है कि राज्य के प्रत्येक वर्ग में अपने रोजगार के अवसर को उन्नत बनाने के लिए हुनर विकसित हो तथा ‘किस्मत योजना‘ किसानों को अपने हुनर को विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here