holi 2018

रंग और प्यार का त्योहार होली का पवित्र पर्व गुरूवार से शुरू होने जा रहा है। देशभर में हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाने वाला यह पर्व बड़े ही उत्साह से सेलि​ब्रेट होने वाला है। holi 2018

कल होली दहन है जबकि शुक्रवार को धुलण्डी यानि रंग खेलने वाली होली है। धुलण्डी से पहले होलिका दहन होता है शास्त्रों के नियमानुसार होलिका दहन फाल्गुन मास की पूर्णिमा तिथि में करना चाहिए। holi 2018

हालांकि होली एक मार्च को सुबह 8 बजे से ही शुरू है लेकिन फिर भी होलिका दहन शाम 7:40 बजे के बाद ही होगा। वजह है, इस साल 1 मार्च को सुबह 8 बजकर 58 मिनट से पूर्णिमा तिथि लग रही है लेकिन इसके साथ भद्रा भी लगा होगा। भद्रा काल में होलिका दहन नहीं करना चाहिए। इससे अशुभ फल प्राप्त होता है, ऐसा नियम है। holi 2018

इस साल होलिका दहन के लिए बहुत ही शुभ स्थिति बनी हुई है। यहां होली दहन का शुभ संयोग, तिथि और शुभ मुहूर्त दिया गया है। holi 2018

कार्यक्रम का समय

  • होली शुभारंभ: 8 बजकर 58 मिनट पूर्णिमा
  • भद्रा काल प्रारंभ: नियत समय
  • भद्रा काल समाप्त: शाम 7 बजकर 37 मिनट
  • होलिका दहन: भद्रा काल समाप्ति के पश्चात
  • धुलण्डी: अगले दिन सुबह

शाम 7.37 बजे भद्रा काल समाप्त हो जाएगा इसके बाद से होलिका दहन किया जाना शुभ रहेगा। वैसे शास्त्रों में बताए गए नियमों के अनुसार इस साल होलिका दहन के लिए बहुत ही शुभ स्थिति बनी हुई है। holi 2018

Read more: हारी भाजपा पर झुकी नहीं अभी वसुंधरा: ले सकती हैं यह 5 कठिन निर्णय

इस बार की होली फलदायक

धर्मसिंधु नामक ग्रंथ के अनुसार, होलिका दहन के लिए तीन चीजों का एक साथ होना बहुत ही शुभ होता है। यह तीन बाते हैं: पूर्णिमा तिथि हो, प्रदोष काल हो और भद्रा ना लगा हो। इस साल होलिका दहन पर ये तीनों संयोग बन रहे हैं। इसे देखते हुए इस साल की होली आनंददायक व फलदायक भी रहेगी। holi 2018

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here