sukhdev-singh

गैंगस्टर आनंदपाल सिंह की मौत को जाति विशेष से जोड़कर सियासी ड्रामा करने वाली करणी सेना के बड़े-बड़े पदाधिकारियों की पोल-पट्टी अब खुल चुकी है। जयपुर कच्छवाहा राजघराने के शेखावत परिवार से सम्बन्ध रखने वाले करनी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी ने आनंदपाल की मौत का सबसे ज़्यादा फायदा उठाने की कोशिश की। राजपूत समाज के लोगों को जातिवाद के नाम पर दुहाई देकर राजनीति में अपने पैर ज़माने की कोशिश करने वाले गोगामेड़ी के ख़िलाफ हनुमानगढ़ निवासी एक महिला ने दुष्कर्म का आरोप लगाया है।



गोगामेड़ी के ख़िलाफ पुलिस में दर्ज़ कराया दुष्कर्म का केस:

सुखदेव सिंह गोगामेड़ी के ख़िलाफ  राजस्थान के हनुमानगढ़ ज़िले में रहने वाली एक महिला ने दुष्कर्म एवं ज़्यादती का आरोप लगाते हुए पुलिस में मामला दर्ज कराया है। पीड़ित महिला ने बताया कि करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी ने उसे बहला-फुसलाकर जयपुर शहर में कई जगहों पर दुष्कर्म किया। पीड़ित महिला ने बताया कि उसके परिवार में थोड़ा झगड़ा चलता रहा था। इसी बीच सुखदेव सिंह से उसका संपर्क हुआ। गोगामेड़ी ने उसे कहा कि वह सब समस्याओं को जल्द ही ठीक कर देगा। फिर गोगामेड़ी उसे किसी न किसी बहाने जयपुर बुलाने लगा। जयपुर बुलाकर सुखदेव सिंह उसे कई बार अपने घर ले गया और कई बार दूसरी जगहों पर। वहां ज़बरदस्ती से सुखदेव सिंह गोगामेड़ी ने उस महिला के साथ रेप किया।

यह भी पढ़ें: आनंदपाल का राजनैतिक इस्तेमाल करने वाले समाज के नेताओं को जानिए, आम नहीं बड़े ख़ास है।

जान से मारने की धमकी देता था:

महिला ने बताया कि सुखदेव सिंह ने रैप करने के बाद उसे जान से मारने की धमकी दी और किसी को भी नहीं बताने के लिए चेताया। सुखदेव सिंह ने हर बार महिला के साथ रैप कर उसे एके-47 और से मार देने की बात कही। सुखदेव सिंह से जान बचाकर भागी पीडि़ता ने इस मामले के सम्बन्ध में संजय सर्किल थाने में मामला दर्ज कराया है। महिला ने बताया कि उसकी लाचारी का फायदा उठा, सुखदेव सिंह ने महीनों तक उसका इस्तेमाल किया। मामला दर्ज़ होने पर पुलिस तुरंत हरकत में आयी है। अब पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। पीडिता के साथ जिन जगहों पर दुष्कर्म किया गया था, उन ठिकानों की जांच पुलिस कर रही है।



फ़ोन बंद कर रखा है गोगामेडी ने:

इस मामले का खुलासा होने पर गोगामेड़ी फरार चल रहा है। पकड़ें जाने के डर से गोगामेड़ी पुलिस से छुपता फिर रहा है। इस विषय पर जब करणी सेना के संरक्षक लोकेन्द्र सिंह कालवी से बात की गयी तो कालवी ने बताया कि करनी सेना संगठन अब गोगामेड़ी से सम्बन्ध नहीं रखता। उसे गत 23 अप्रैल को ही संगठन से बहिष्कृत कर दिया गया था। इस पूरे मामले में जब गोगामेड़ी से अपना पक्ष जान्ने के लिए संपर्क करना चाहा तो गोगामेड़ी का फोन नहीं मिल रहा है। आरोपी का फ़ोन फिछले दिनों से बंद आ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here