राजस्थान में कृषि को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे द्वारा ग्लोबल राजस्थान एग्रीटेक मीट-2016 का आयोजन किया गया। इस कृषि महामेले में राजस्थान सरकार और उद्दमियों के बीच हुए एमओयू के अनुसार निवेशकों की पूंजी प्रदेश में निवेश कराने की कवायदे शुरु कर दी गई हैं। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ग्राम-2016 के ज़रिए प्रदेश के किसानों को सशक्त बनाने के प्रयास अब जल्द ही धरातल पर होंगे। मुख्यमंत्री राजे ने ग्राम-2016 में 38 कंपनियों से करीब 4400 करोड़ के एमओयू किए थे।

38 एमओयू से मिलेंगे 47 हजार रोजगार, कृषि का नया चेहरा होगा प्रदेश

राज्य सरकार से 38 कंपनियों के बीच हुए एमओयू को अब सरकार धरातल पर  लाने में जुट गई हैं। राज्य सरकार के इन प्रयासों के फलीभूत होने से प्रदेश के करीब 47 हजार से ज्यादा लोगों को रोजगार मुहैया हो सकेगा। साथ ही प्रदेश में कृषि विकासों का एक नया चेहरा सामने आयेगा। राज्य सरकार ने देश-विदेश की कई कंपनियों के साथ मिलकर प्रदेश के किसानों को आर्थिक सहायता तथा उन्नत कृषि की तकनीकों के बारे मे विस्तार से अवगत कराने के उद्देश्य से ये करार किए थे। अब इन करारों के लागू होने से प्रदेश के किसान और प्रदेश के युवा वर्ग का नया रुप सामने आने की संभावनाए हैं।

इन क्षेत्रों में हुए राज्य सरकार के करार

राजस्थान सरकार और विभिन्न कंपनियों के बीच हुए इन एमओयू में कृषि मार्केटिंग, कृषि उत्पादन, उद्यानिकी, पशुपालन के क्षेत्र में हैं इनके अलावा एकीकृत बागवानी, भंडारण, कोल्ड स्टोरेज, मुर्गीपालन, मछली पालन, कृषि पर्यटन, कृषि आईटी के क्षेत्रों में विकास कार्य होंगे। कृषि विभाग प्रोसेसिंग में हुए एमओयू पर अधिक फोकस कर रहा हैं इसका कारण यह है कि प्रदेश के अधिकांश किसान अभी कृषि प्रोसेसिंग में सक्रिय नही हैं।

38 एमओयू के लिए 38 विशेषअधिकारी किए अटैच

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने ग्राम-2016 में हुए करारों को कागज से धरातल पर लाने के लिए विशेष व्यवस्था की हैं। राजे ने 38 एमओयूज के लिए 38 अधिकारियों को नियुक्त किया हैं। ये अधिकारी विशेष तौर पर ग्राम में हुए एमओयू का कार्य ही संभालेंगे। इन अधिकारियो की जिम्मेदारी होगी की जिन कंपनियों से राज्य सरकार ने करार किए है वे प्रदेश में निवेश भी करें। इसके लिए कंपनियों के उद्योग में आने वाली बाधाओं को दूर करें। एमओयू में आने वाली हर समस्या का निदान वह अधिकारी करेगा जिससे एमओयू क्रियानव्यित होने में समय व्यर्थ नही हो।

ग्लोबल राजस्थान एग्रीटेक मीट (ग्राम-2016)

राजस्थान सरकार राज्य में कृषि आय में वृद्धि करने के लिए कृषि एवं संबंधित परितंत्र के विकास के लिए प्रतिबद्ध है। राज्य में ग्लोबल राजस्थान एग्रिटेक मीट 2016 (ग्राम 2016) की अवधारणा तैयार की, जो वैश्वीकृत, बाजार-चालित एवं लाभकारी उपक्रमों को आकार प्रदान करते हुए कृषि एवं संबद्ध गतिविधियों की धारणीयता एवं आर्थिक व्यवहार्यता को सुधारने की प्रक्रिया को बदलने और उत्प्रेरित करने के लिए प्लेटफॉर्म के रूप में एक कृषि-तकनीकी एवं व्यापार समारोह आयोजित गया था। इस समारोह सभी भागीदारों- किसानों, शिक्षाविदों, तकनीकीविदों, कृषिव्यापार कंपनियों एवं नीति निर्माताओं को एकसाथ खड़ा किया गया था। जिससे नई विधियों एवं बेहतरीन कार्य-व्यवहारों के जरिए धारणीय कृषि एवं संबंधित गतिविधियों के विकास को तेज किया जा सके।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here