Gehlot

कई बार मीडिया के सामने बातों ही बातों में अपने आप को राजस्थान का अगला मुख्यमंत्री बता चुके अशोक गहलोत के लिए अपना गृहक्षेत्र जोधपुर ही सबसे बड़ी चुनौती बना हुआ है। आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की सरकार बनने के दावे करने वाले पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत इन दिनों अपने गृहक्षेत्र में आ रही चुनौतियों से पार पाने की कोशिश में है। Gehlot

दरअसल, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गहलोत पर गत दो बार से उनके खुद के गृहनगर जोधपुर में बीजेपी भारी पड़ रही है। खासकर जोधपुर शहर की दो सीटें गहलोत के लिए बड़ी चुनौती बनी हुई हैं। Gehlot

इस बार भी गहलोत कमर कसकर इन सीटों पर कांग्रेस को जीत दिलाने के लिए प्रयासरत है। लेकिन पिछले दो बार की तरह ही इस बार भी ये सीटें बीजेपी के खाते में जाने की पूरी संभावना है। यही बात गहलोत के लिए परेशानी का सबब बनी हुई है। गहलोत अपने गृहक्षेत्र में ही हार गए तो उनकी खुद की सीएम दावेदारी कमजोर पड़ जाएगी। वैसी भी प्रदेश में कांग्रेसी नेताओं की अंदरूनी लड़ाई पहले ही पार्टी के लिए बड़ी चुनौती बनी हुई है। Gehlot

जोधपुर शहर और सूरसागर विधानसभा सीट पर कांग्रेस को चुनाव नहीं जिता सके गहलोत Gehlot

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत के लिए अपने गृहनगर जोधपुर शहर की दो विधानसभा सीटों पर पार्टी को जीत दिलाना चुनौती बना हुआ है। लाख जतन करने के बावजूद गत दो विधानसभा चुनाव में गहलोत जोधपुर शहर और सूरसागर विधानसभा सीट पर अपने पसंद के प्रत्याशी को चुनाव नहीं जिता पाए हैं। Gehlot

Read More: Election Commission gives nod to RERA appointment in Rajasthan

इस दौरान प्रदेश में कांग्रेस की सरकार भी बनीं इसके बावजूद ये दोनों सीटें कांग्रेस के हाथ से फिसल गई। अगर 2013 के विधानसभा चुनाव की बात करें तो जोधपुर जिले की दस सीटों में से कांग्रेस महज एक सीट पर सिमट गई थी। अशोक​ गहलोत बड़ी मुश्किल से जीत दर्ज कर सके थे। गहलोत अपनी पारंपरिक सीट सरदारपुरा से ही चुनाव लड़ते आए हैं। इस बार भी वे इसी सीट से टिकट के दावेदार बनकर सामने आ रहे हैं।

अशोक गहलोत कई बार जता भी चुके हैं यह दर्द

पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गाहे-बगाहे जोधपुर के लोगों के सामने अपनी इस टीस को कई बार जता भी चुके हैं। लेकिन इन विधानसभा क्षेत्र के लोगों ने गहलोत को हमेशा नकारा है। राजस्थान विधानसभा के अब एक बार फिर चुनाव आ गए हैं और दोनों सीटों पर हमेशा की तरह प्रत्याशी का चयन भी गहलोत ही करेंगे। ऐसे में उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती ऐसे प्रत्याशी का चयन करने की है जो यहां से जीत हासिल कर सके।

साथ ही गहलोत के लिए खुद की सीट बचाना भी चुनौती होगा। फिलहाल गहलोत ने अपने पत्ते खोले नहीं हैं, लेकिन उनके कार्यकर्ता इस बात का दावा कर रहे हैं कि जोधपुर में कांग्रेस की ही जीत होगी। दूसरी ओर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के नेतृत्व में प्रदेश समेत जोधपुर में इतने विकास कार्य हुए हैं जितने पिछले 50 वर्षों में नहीं हुए हैं। ऐसे में गहलोत समर्थकों का ये दावा करना ज़रा भी सच नज़र नहीं आ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here