राजस्थान कांग्रेस में फिर दिखी तकरार, सचिन पायलट ने मंच पर ही सीएम गहलोत पर कसा तंज

0
249

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच जारी टकराव थमने को नाम नहीं ले रहा है। वरिष्ठ कांग्रेस नेता अशोक गहलोत और पार्टी के युवा चेहरे सचिन पायलट के बीच कड़वाहट एक बार फिर खुलकर सामने आ गई है। लेकिन मंगलवार को पीसीसी में एक समारोह में एक बार फिर से दोनों नेताओं के बीच का द्वंद सामने आया। पीसीसी में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 75 वीं जयंती पर आयोजित कार्यक्रम का जहां मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जहां अपने संबोधन में राजीव गांधी के साथ खुद के संस्मरण के जरिए एक नेता के तौर पर उनकी काबलियत का जिक्र किया। वहीं सचिन पायलट ने अपने संबोधन में सीएम को विधायकों और कार्यकर्ताओं की भावना का सम्मान करने की नसीहत दे डाली।

पार्टी को दलालों से दूर रखना चाहिए – पायलट
सचिन पायलट ने कहा कि मुख्यमंत्री जी आप कार्यकर्ता और विधायकों की भी सुनिए। उन्होंने कहा कि जब विधायक आपके पास काम लेकर जाएं तो आप डीपीआर बनाने की बात नहीं कहकर तुरंत उसकी घोषणा कर दिया कीजिए। राजीव गांधी का हवाला देते हुए पायलट ने इशारों-इशारों में कहा कि हमें पार्टी में पार्टी को दलालों से दूर रखना चाहिए। पायलट ने कहा कि मुंबई के अधिवेशन में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने कहा था कि हमारी पार्टी में भी अगर दलाल हैं तो उन्हें बाहर निकालना होगा।

सरकार से ज्यादा संगठन को तवज्जो देनी चाहिए
पायलट ने सरकार और संगठन को लेकर भी इशारों-इशारों में मुख्यमंत्री से कहा कि राजीव गांधी कहा करते थे कि हमेशा सरकार से ज्यादा संगठन को तवज्जो देनी चाहिए। पायलट ने गहलोत की तरफ निशाना साधते हुए कहा कि राजस्थान में हमें पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं की भावनाओं का ख्याल रखना चाहिए। दरअसल, विधानसभा चुनाव के बाद से ही राजस्थान कांग्रेस में दो गुट बन गए हैं। एक गुट सचिन पायलट के समर्थकों का है तो दूसरा अशोक गहलोत समर्थकों का।

RESPONSES

Please enter your comment!
Please enter your name here