Former CM Ashok Gehlot

राजस्थान आज खुशहाल प्रदेशों की गिनती में सबसे ऊपर आता हैं लेकिन कई मौकों पर प्रदेश को मुंह की भी खानी पड़ी हैं। राजस्थान में ऐसे कई नेता हुए हैं जिन्होने प्रदेश की छवि खराब करने का कोई मौका नही छोड़ा। यहां हम आपकों राजस्थान के कुछ ऐसे ही नेताओं से रूबरू करवाने जा रहे हैं जिन्होने देश भर में प्रदेश को सुर्खियों का विषय तो बना दिया था लेकिन विवादों से ही।

अशोक गहलोत

राजस्थान सरकार के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कभी अपने पुत्र मोह में तो कभी अपनी बटी के सपनों को साकार करने के लिए सरकार के खज़ाने को क्षति पहुंचाते रहे। गहलोत सराकर घोटालों और विवादों के लिए हमेशा चर्चा में रहे है। गहलोत सरकार के घोटालो में रॉबर्ट वाड्रा का सोलर लैंड घोटाला, 108 एंबुलेंस घोटाला, उदयसागर झील घोटाला, फाइव स्टार होटल का दो हजार करोड का घोटाला, वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन घोटाला, जोधपुर में खनन घोटाला, जोधपुर विश्वविद्यालय में फर्जी प्रोफेसर भर्ती घोटाला और खान आवंटन जैसे घोटालों में सबसे आगे नाम है। इन सबमें  108 एंबुलेंस घोटाले को सबसे उपर देखा जाता है। इस घपले में कांग्रेस सरकार द्वारा 2.56 करोड़ रुपये का गबन सामने आया जिसमें गहलोत, पायलट, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री एए खान और पूर्व केंद्रीय मंत्री  पी. चिदम्बरम के बेटे कीर्ती की स्वास्थय सेवाएं देने वाली कंपनी जिगित्जा हेल्थकेयर सहित 6 ज़नों पर मामला दर्ज हुआ था।

Form CM Ashok Gehlot Scams

महिपाल मदेरणा – भंवरी देवी प्रकरण

राजस्थान के जोधपुर जिले के बिलाडा उपखड स्थित उप स्वास्थ्य केन्द्र में कार्यरत नर्स भवरी देवी के लापता होने के बाद उसकी प्रदेश के बर्खास्त मंत्री महिपाल मदेरणा के साथ चर्चित कथित वीडियो सीडी ने राजस्थान को शर्मसार कर डाला। शांत समझे जाने वाले मरू प्रदेश में  सी.बी.आई जाचों की झड़ी लग गई। लापता नर्स भंवरी देवी लोकगीतों के खुद के बनाए एलबम को लेकर जानी जाती थी लेकिन राज्य के पूर्व जल संसाधन मंत्री महिपाल मदेरणा के साथ उजागर हुई उनकी एक कथित सीडी ने देश भर में, विशेष तौर पर उत्तर भारत की राजनीति में भूचाल ला दिया। कथित सीडी ने राजनीति की ओट में चल रहे कारनामों का दूसरा पक्ष भी उजागर कर दिया और इस घटना से प्रदेश की बेदाग छवि पर धब्बा भी लग गया। वीडियो सीडी आने के बाद महिपाल मदेरणा की पत्नी लीला मदेरणा द्वारा दी गई प्रतिक्रिया आज तलक राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय बनी ।

Also Read: Corrupt Leaders of BJP and Congress in Rajasthan

सीपी जोशी- मेवाड़ मिल घोटाला

भीलवाड़ा में उद्योग शुरू कर यहां रोज़गार के अवसर पैदा करने के उद्देश्य से मेवाड़ रियासत की ओर से मेवाड़ टैक्सटाइल्स मिल के लिए दी गई 184 बीघा सरकारी जमीन को मिल के प्रबंधकों ने अपना ऋण उतारने के लिए 125 करोड़ में नीलाम करवा दिया। इतना बड़ा घोटाला करने में तत्कालीन जिला कलेक्टर, बैंक अधिकारियों के साथ मिलकर मिल के प्रबंधकों ने ऐसा जाल रचा कि रेवेन्यू रिकार्ड में दर्ज नहीं होने के बावजूद इसे खुद की जमीन बता दिया और कर्ज उतारने के लिए इसे नीलाम करवा दिया। इसके अलावा ज़ोशी ने उदयपुर में हुए घोटालों में भी अपनी भूमिका अदा कि है।

 

उदयसागर झील घोटाला- वैभव गहलोत

गहलोत सराकर के समय प्रदेश में पुलिस, राजनीतिज्ञ और होटल व्यवसायियों का गठबंधन बना हुआ था । राज्य सरकार ने प्रदेश एक आईजी अनिल पालीवाल की पत्नी सारिका पालीवाल की सहभागिता वाले वर्धा एंटरप्राइजेज के उदयपुर लेक होटल को नियमों के खिलाफ जाकर निर्माण करने की अनुमति दे दी।  उदयपुर के उस झील-तालाब वाले क्षेत्र में किसी भी प्रकार के निर्माण की वर्ष  2007 से ही हाईकोर्ट ने आदेश जारी कर रोक लगा रखी है। इस धोटालें में काग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सीपी ज़ोशी  का भी नाम शामिल है।

vaibhav-gehlot

घनश्याम तिवाडी

पार्टी से लंबे समय से साइड़ लाइन चल रहे भाजपा के वरिष्ठ विधायक घनश्याम तिवाड़ी ने नई पार्टी (दीनदयाल वाहिनी) बनाने के संकेत दे दिए हैं। दीनदयाल वाहिनी की प्रदेश कार्यसमिति बैठक में पार्टी के संविधान के प्रारूप को सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया। इसके लिए 1 करोड़ रुपए के फंड जुटाने तथा पार्टी के आगामी कार्यक्रमों की भी घोषणा के साथ ही तिवाड़ी ने यह भी ऐलान कर दिया कि उनकी वाहिनी प्रदेश में सैकिंड या या थर्ड फ्रंट नही बल्कि फस्र्ट फ्रंट बनेगी।

 

शांती धारीवाल

पूर्ववर्ती गहलोत सरकार में केबिनेट मंत्री शांती धारीवाल भी भ्रष्टाचार के आरोप लग चुके है। धारीवार का एकल पट्टा प्रकरण में पूर्व केंद्रीय वित्त सचिव जीएस संधू, औंकार मल सैनी के साथ भ्रष्टाचार में आ चुका है। फिलहाल धारीवाल एसीबी के लपेटे में है औऱ इस मामले में एसीबी की कार्रवाही जारी है।

किरोड़ी लाल मीणा

राजस्थान में किरोड़ी लाल मीणा नें अपनी अलग पहचान बनाई है। विधायक किरोडी लाल मीणा ने मीणा समाज को एकजुट कर फ्रंट पर आने की कोशिश की है। किरोड़ी लाल मीणा असमय बयानबाजी से भी चर्चा में बने रहते है। हाल ही में किरोड़ी लाल मीणा ने जय़पुर में अपना शक्ती प्रदर्शन किया था जिसकी वजह से उन्हे खासी चर्चा मिली।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here