पिछले विधानसभा चुनाव में हार के बाद कांग्रेस की कमान पूर्व केंद्रीय मंत्री सचिन पायलट को सौंपी गई थी। 21 जनवरी को पायलट को तीन साल पूरे हो जाएंगे। लेकिन आज जो कांग्रेस की हालत हैं उससे कांग्रेस अपने परेशान दिखाई दे रही हैं। राजस्थान कांग्रेस संगठन पिछले तीन सालों से आपसी फूट और बंटने मे ही लगी हैं। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट का कहना हैं कि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 200 में से महज 121 सीटें मिली थी।

अब विकास का मॉड़ल, 70 साल से कहां थी कांग्रेस

लोकसभा चुनाव में भी कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा था। तो इस बार भी कांग्रेस अपने हाल को रोने के लिए तैयार हो जाए। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के नेतृत्व में राजस्थान में विकास की नई ऊंचाईयों को छुआ हैं। राजस्थान आज देश के अग्रणी राज्यों में शूमार हैं। क्या कांग्रेस के पिछले 70 सालों के शासन में राजस्थान की कहीं अव्वल आने का दर्जा देने की कोशिश भी की थी। अगर कांग्रेस ने पिछले 70 सालों में प्रदेश को कोई विकास का मॉड़ल दिया होता तो राजस्थान आज की स्थिती कुछ और होती।

वोट मांगने से पहले अपने गिरेबां में झांके कांग्रेस

पायलट का कहना हैं कि 22 माह बाद विधानसभा चुनाव होने हैं इससे पहले पार्टी गरीब, मजदूर, युवा, किसान और महिलाओं के विकास को लेकर एक मॉड़ल तैयार करेगी और उसको सामने रख कर जनता से वोट मांगेगी। लेकिन कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष राजस्थान के वर्तमान विकास कार्यों की अनदेखी कर रहे हैं। सचिन पायलट अपनी पूर्ववर्ती गहलोत सरकार के बारे में जरा सोच कर देखे तो शायद उन्हे सच्चाई से तारूफ होने का मौका मिलेगा।

मुख्यमंत्री राजे ने बनाया सपनों का राजस्थान

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के प्रयासों से राजस्थान के तरक्की की नई गाथा लिखी हैं। राजस्थान आज देश के उच्च पायदानों पर खड़ा हैं। मुख्यमंत्री राजे ने राजस्थान के विकास का विजन लोगों के सामने रखा हैं ना कि प्रदेश को लूट खंसोटकर खाने का। पूर्ववर्ती गहलोत सरकार ने राजस्थान को घोटालों के घावों के सिवा कुछ नही दिया हैं।

गहलोत सरकार ने दिया राजस्थान को घोटालों का दर्द

पूर्वमुख्यमंत्री गहलोत के शासनाकाल में राजस्थान को 108 एंबूलैंस घोटाला, सोलर लैंड घोटाला, खनन घोटाले, जल महल घोटाला, नागौर लिफ्ट परियोजना घोटाला, मेवाड़ मिल घोटाला, रिको भूंआवंटन घोटाला, ई-मित्र घोटाला, महानरेगा घोटाला, सोलर ऊर्जा घोटाला जैसे कई घोटालों के दर्द से राजस्थान को गूजरना पड़ा।

तीन साल में किया अच्छा काम, मिला ठोस परिणाम

इन सबसे परे मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने राजस्थान को तीन सालों में अच्छा काम किया और उसका ठोस परिणाम दिया हैं। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने राजस्थान में किसान और गरीब के विकास के विजन को देखते हुए विकास कार्य करवाएं हैं। आज राजस्थान की मुख्यमंत्री प्रदेश के प्रत्येक जिले में जाकर खुद विकास कार्यों और सरकारी योजनाओं से अवगत करवा रही हैं ताकि हर तपके के लोग इन योजनाओं का ज्यादा से ज्यादा लाभ ले सके।

राजे सरकार की योजनाओं में प्रगति के पथ पर राजस्थान

मुख्य़मंत्री राजे ने राजस्थान को भामाशाह योजना, भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना, आरोग्य राजस्थान, ग्रामीण गौरव पथ, कौशल एवं आजीविका विकास, मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान, स्वच्छ भारत मिशन, मुख्यमंत्री राजश्री योजना, अन्नपूर्णा भंड़ार, न्याय आपके द्वार अभियान, ई-मित्र योजना, राजस्थान संपर्क  की सौगाते दी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here