Vasundhara-raje

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने शुक्रवार को कलक्टर-एसपी कांफ्रेंस में पुलिस की तारीफ के पूल बांधे। कांफ्रेंस में पुलिस विभाग का प्रजेंटेंशन देखने के बाद उन्होने कहा कि वे बहुत खुश है। कमी है, लेकिन हमारी पुलिस बेहतर है। मुख्यमंत्री कार्यालय में चल रही चार दिवसीय कलक्टर-एसपी कांफ्रेंस के तीसरे दिन मुख्यमंत्री राजे ने कहा कि पुलिस का सभी क्षेत्रों में काम सराहनीय रहा है सभी अधिकारी ईमानदारी से काम करें। उन्होने कहा कि पिछले कुछ सालों में पुलिस के प्रति लोगों के व्यवहार में बदलाव आया है और हमारी पुलिस की छवि भी सुधरी है। मुख्यमंत्री राजे ने कहा कि पुलिस अधिकारी अपनी कार्यशैली में बदलाव करें और सामान्य व्यक्ति की तरह भी सोचें और मानवीय सोच का भी शामिल करें। पुलिस अधिकारी उन बातों को समझें जो अपराध का कारण बनती है।

कानून व्यवस्था में हुआ सुधार, अपराध हुआ कम

मुख्यमंत्री राजे ने कहा कि राज्य में बेहतर पुलिसिंग से कानून व्यवस्था में सुधार हुआ हैऔर अपराध के ग्राफ में भी लगातार गिरावट आ रही है। राजे ने कहा कि अधिकारियों की यह जिम्मेदारी है कि वे महिलाओं, बच्चों और कमजोर वर्गों पर होने वाले अपराधों की संवेदनशीलता के साथ तफ्तीश करें और अपराधियों पर सख्ती से लगाम लगाएं। अवैध हथियार और शराब पर रोक लगाएं। आर्म्स लाइसेंस आवेदनों का निस्तारण करें। अन्य राज्यों की पुलिस से बेहतर संपर्क कर सांप्रदायिक तनाव की घटनाओं को रोकने पर जोर दे।

मुख्यमंत्री राजे ने लिया अपराध नियंत्रण का फीडबैक

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने बैठक में आईजी, पुलिस कमिश्नर और पुलिस अधिक्षकों से कानून व्यवस्था की स्थिती में अपराध नियंत्रण तथा स्मार्ट पुलिसिंग के लिए किए गए नवाचारों पर फीडबैक लिया। एडीजी पंकज चौधरी ने अपराध विश्लेषण, चुनौतियां व समाधान विष्य पर और पुलिस कमिश्नर संजय अग्रवाल ने राज्य में पुलिस द्वारा किए जा रहे नवाचारों को लेकर मुख्यमंत्री राजे को प्रेजेंटेंशन दिए।

सोशल मीडिया और असामाजित तत्वों पर लगाए रोक

मुख्यमंत्री ने कहा कि कश्मीरी छात्रों पर हमले और गौरक्षा के नाम पर कानून हाथ में लेने की घटनाओं से प्रदेश की छवि खराब होती है। ऐसे मामलों में पुलिस तथा जिला प्रशासन को त्वरित और कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। स्थानीय प्रशासन विशेष आयोजनों, धार्मिक यात्राओं एवं जुलूसों पर डीजे वैन आदि के उपयोग से दूसरों को होने वाली परेशानियों पर कड़े कदम उठाए। उन्होंने फेसबुक, वाट्स-अप जैसे सोशल मीडिया माध्यमों की नियमित मॉनीटरिंग कर इनके माध्यम से अफवाह फैलाने वाले असामाजिक तत्वों पर लगाम लगाने के निर्देश दिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here