Raje Government

राजस्थान सरकार प्रदेश के गरीब और होनहार बच्चों के उत्थान के लिए कई योजनाएं चला रही है। वसुंधरा राजे के नेतृत्व वाली वर्तमान सरकार ने प्रदेश में बालिका शिक्षा बढ़ावा देने के लिए कई महत्वपूर्ण योजनाएं शुरु की हैं। बालिकाओं को अच्छी शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए राजे सरकार ने सुविधाओं में खासतौर पर विस्तार ​किया है। राज्य सरकार प्रदेश की प्रतिभावान छात्राओं को विदेश अध्ययन का मौका भी दे रही है। ऐसी ही एक योजना के तहत राजे सरकार विदेश अध्ययन के लिए छात्रा को 1 करोड़ रुपये तक की स्कॉलरशिप दे रही है। इसी योजना के तहत राजे सरकार ने सीकर जिले की एक बेटी को विदेश पढ़ने के लिए हरसंभव मदद दी है। आइये जानते हैं सीएम राजे और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मिलकर राजस्थान की एक बेटी का सपना कैसे साकार किया है…

मुख्यमंत्री राजे और सीकर सांसद के प्रयास से भानूप्रिया को विदेश अध्ययन के लिए मिला वीजा Raje Government

राजस्थान के सीकर जिले की बेटी भानूप्रिया हरितवाल को केन्द्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे व सीकर सांसद स्वामी सुमेधानन्द सरस्वती के प्रयासों से का विदेश अध्ययन के लिए वीजा मिल गया है। भानूप्रिया अमेरिका की कैलिफोर्निया स्टेट यूनिवर्सिटी में कंप्यूटर साइंस विषय में आगे की पढ़ाई करेगी। 17 साल की भानूप्रिया का सपना अमेरिका में उच्च शिक्षा हासिल करना था, मगर इसके लिए अमेरिकी दूतावास से उसे वीजा मिलने में बाधा आ रही थी। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के हस्तक्षेप के बाद भानूप्रिया को विदेश में पढ़ने का वीजा मिल गया है। Raje Government

Raje Government

राजे सरकार की छात्रवृति योजना में विदेश अध्ययन का मिला मौका 

सीकर की भानूप्रिया हरितवाल को राजस्थान सरकार की छात्रवृति योजना के तहत ही विदेश अध्ययन का मौका मिला। लेकिन दो बार अमेरिका दूतावास से वीजा निरस्त होने पर वह काफी निराश हो गई थी। तब दिल्ली में उनकी मुलाकात सीकर सांसद स्वामी सुमेधानन्द सरस्वती से हुई। इसके बाद सांसद सरस्वती ने भानूप्रिया हरितवाल को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मिलवा कर वीजा दिलवाने में मदद की। Raje Government

10वीं क्लास की स्टेट मेरिट में दूसरा स्थान प्राप्त किया था भानुप्रिया ने

भानुप्रिया सीकर जिले की श्रीमाधोपुर तहसील के जलालपुर गांव के सोहनलाल शर्मा की इकलौती बेटी है। उनके पिता एक निजी महाविद्यालय में शिक्षक हैं। भानुप्रिया हरितवाल ने राजस्थान बोर्ड की 10वीं की परीक्षा वर्ष 2015 में स्टेट मेरिट में दूसरा स्थान प्राप्त किया था। राजस्थान सरकार दसवीं स्टेट मेरिट की प्रथम तीन छात्राओं को 12वीं के बाद स्नातक स्तर की चार वर्षीय पढ़ाई के लिए 25 लाख रुपये प्रतिवर्ष (कुल एक करोड़ रुपये) की छात्रवृति देती है। Raje Government

राजे सरकार भानूप्रिया को देगी 1 करोड़ की स्कॉलरशिप Raje Government

राजस्थान सरकार भानूप्रिया को 25 लाख रुपये प्रतिवर्ष अगले चार साल तक छात्रवृति के रूप में देगी यानि राजे सरकार भानूप्रिया को कुल 1 करोड़ रुपये स्कॉलरशिप के रूप में देगी। राजस्थान सरकार की छात्रवृत्ति से प्रोत्साहित होकर भानूप्रिया ने विदेश में पढ़ने का फैसला किया था। इसलिए उन्होंने अमेरिकन वीजा के लिए आवेदन किया था। भानूप्रिया ने राजस्थान बोर्ड से 12वीं हिन्दी माध्यम से स्कॉलरशिप एप्टीट्यूट टेस्ट सैट एवं आई.ई.एल.टी. की परीक्षाओं की तैयारी की तथा अच्छा स्कोर प्राप्त करके कैलिफोर्निया स्टेट यूनिवर्सिटी अमेरिका में प्रवेश पाया है। Raje Government

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here