maulana-ramzan-and-subhash-jangir-arrested-by-delhi-police

इसे भारत का दुर्भाग्य ही कहा जाएगा कि अपने देश की सुरक्षा से जुड़े दस्तावेज दुश्मन देश पाकिस्तान को भेजे जा रहे हैं। ऐसे गद्दार पाकिस्तान ही नहीं, बल्कि अपने देश के निवासी हंै। 27 अक्टूबर को दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने जो खुलासा किया है, वह बहुत ही चौकाने वाला है। राजस्थान के नागौर में गांधी चौक में रहने वाले मौलाना रमजान और सुभाष जांगिड़ को गिरफ्तार कर पूछताछ की गई तो पता चला कि राजस्थान सीमा के सुरक्षा के महत्वपूर्ण दस्तावेज इन्होंने बीएसएफ के अधिकारियों से हासिल किए, फिर दिल्ली स्थित पाकिस्तानी दूतावास के दो अधिकारियों से मोटी रकम लेकर बेच दिए। यानि इन दोनों गद्दारों ने अपने देश की सुरक्षा को खतरे में डाल दिया। पुलिस ने जोधपुर के शोएब नाम के एक और व्यक्ति को हिरासत में लिया है। पुलिस अब बीएसएफ के उन अधिकारियों का भी पता लगा रही है, जो इन गद्दारों से मिलते रहे हैं। राजस्थान से जुड़ा यह मामला कितना गंभीर है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 27 अक्टूबर को पाकिस्तान के राजदूत को हमारे गृह मंत्रालय में तलब किया गया और गद्दारों से सुरक्षा दस्तावेज लेने वले दूतावास के दोनों अधिकारियों को तुरंत भारत छोडऩे के निर्देंश दिए गए। हालांकि दिल्ली पुलिस ने पाक दूतावास के दोनों अधिकारियों को भी हिरासत में लिया था, लेकिन विदेशी राजनयिक होने के कारण दोनों को छोडऩा पड़ा। माना जा रहा है कि इस मामले में और गद्दारों की गिरफ्तारी होगी।
(एस.पी. मित्तल)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here