एक टॉफी की चाहत ने बर्बाद कर दी मासूम की जिंदगी, युवक ने बनाया हवस का शिकार

    0
    40

    जयपुर। प्रदेश में महिलाओं और मासूम बच्चियों के खिलाफ बढ़ रहे अपराध कम होने का नाम नहीं ले रहे है। प्रदेश के हर कौने से गैंगरेप, हत्या और रेप की घटना सामने आ रही है। प्रदेश के भीलवाड़ा के मांडलगढ़ तहसील क्षेत्र के महुआ में अनुसूचित जाति कि 9 वर्षीय नाबालिग बच्ची के साथ हुई दुष्कर्म की घटना सामने आई है। इसके बाद संपूर्ण शाहपुरा ब्लॉक में वाल्मीकि समाज में भारी आक्रोश व्याप्त है। समाज बंधु त्रिमूर्ति चौराहे से एक साथ होकर उपखंड कार्यालय शाहपुरा पहुंचे, जहां पर तहसीलदार नारायण लाल जीनगर को ज्ञापन सौंपा गया।

    फास्ट ट्रैक कोर्ट हो मामले की सुनवाई
    वाल्मिकी समाज विकास समिति के नेतृत्व मे ज्ञापन के जरिए राज्यपाल, मुख्यमंत्री, गृह मंत्री राजस्थान सरकार को भेजकर आग्रह किया गया है। उन्होंने कहा कि बालिका के साथ दुष्कर्म के मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाकर जल्द से जल्द बालिका को न्याय दिलाएं। साथ हीं, बालिका का मेडिकल महात्मा गांधी अस्पताल भीलवाड़ा में मेडिकल बोर्ड से नहीं करवाने से निष्पक्ष जांच पर सवाल खड़े होते है, जिस कारण मेडिकल जांच पर भी संशय है। ज्ञापन में बताया गया है कि मामले के दौरान मेडिकल रिपोर्ट से छेड़छाड़ की संभावना है।

    टॉफी लेने गई नाबालिग से दुष्कर्म
    आपको बता दें कि मांडलगढ़ थाना क्षेत्र के महुआ गांव में एक दलित नाबालिग बच्ची टॉफी लेने दुकान पर गई थी, तो दुकानदार छोटू लाल शर्मा ने उसे अपनी हवस का शिकार बनाया। मामला सामने आने के बाद पुलिस ने आरोपी छोटू लाल को गिरफ्तार कर परिजनों की रिपोर्ट पर पोक्सो एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था। दलित नाबालिग बच्ची के साथ हुई इस घटना के विरोध में भीलवाड़ा शहर सहित जिलेभर में प्रदर्शन किए जा रहे हैं और आरोपी छोटू लाल को फांसी की सजा देने की मांग उठ रही है।

    RESPONSES

    Please enter your comment!
    Please enter your name here