राजस्थान में 74.08 फीसदी मतदान, मतगणना 11 को, पोकरण में सबसे ज्यादा वोटिंग

0
248
voting in Rajasthan

प्रदेशभर में शुक्रवार को राजस्थान की 15वीं विधानसभा के लिए हुए चुनाव शांतिपूर्ण हुए। प्रदेश की 200 विधानसभा सीटों में से 199 सीटों के लिए यह मतदान होगा जिसमें कुल 4 करोड़ 74 लाख 37 हजार 761 मतदाताओं ने अपने मता का प्रयोग किया। हालांकि प्रदेशभर में मतदान का प्रतिशत 74.08 फीसदी रहा। यह संख्या बढ़ने की संभावना है क्योंकि इन आंकड़ों में पोस्टल मतपत्र एवं सर्विस मतपत्र जुड़ने शेष हैं। voting in Rajasthan

अब तक मिला मतदान प्रतिशत पिछले चुनावों की तुलना में 1.15 फीसदी कम है। प्रदेश में सबसे अधिक वोटिंग पोकरण (जैसलमेर) विधानसभा सीट पर हुई। यहां 87.43 प्रतिशत मत पड़े। मतगणना 11 दिसंबर को जिला मुख्यालयों पर करायी जाएगी। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे सहित भाजपा प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी ने चुनावी रण में सफलता की पूरी उम्मीद जताई है।

प्रदेश की 199 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों से कुल 2274 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। इंडियन नेशनल कांग्रेस से 194, भारतीय जनता पार्टी से 199 उम्मीदवार, बहुजन समाज पार्टी से 189, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से 1, कम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया से 16 एवं कम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (मार्कसिस्ट) से 28 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि 817 अमान्यता प्राप्त दलों के प्रत्याशी एवं 830 निर्दलीय उम्मीदवार चुनाव मैदान में जोर-आजमाइश करते नजर आए। इनमें से 2087 पुरुष और 187 महिला प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं। voting in Rajasthan

Read More: एक राजदार हाथ लगा है.. नामदारों का ख्याल रखता था, अब उनके राज खोलेगा: प्रधानमंत्री मोदी

जिलेवार बात करें तो सबसे ज्यादा मतदान जैसलमेर में हुआ। यहां 83.65 वोटिंग हुई है। पाली सबसे कम मतदान वाला जिला रहा। यहां 64.65 फीसदी मतदान हुआ है। राजधानी जयपुर की बात करें तो यहां ओवरआॅल 74.70 फीसदी मतदान हुआ। पिछले चुनावों के मुकाबले यह 2.17 फीसदी ज्यादा है। जिले में चौमूं विधानसभा सीट पर 83.85 प्रतिशत सबसे अधिक एवं मालवीय नगर में सबसे कम वोट पड़े।  सीटवार बात करें तो जैसलमेर की पोकरण विधानसभा सीट पर सबसे अधिक (87.43) फीसदी मतदान हुआ है। वहीं पाली जिले की मारवाड़ जंक्शन (60.06) फीसदी पर सबसे कम मतदान दर्ज हुआ है।

इस बार के विधानसभा चुनावों में 257 आदर्श मतदान केन्द्र भी बनाए गए थे। इस आदर्श मतदान केन्द्रों पर चिकित्सा, पानी, द्विव्यांगों के लिए रैंप सहित सेल्फी पॉइंट जैसी सुविधाएं बनाई गई थीं। इस बार के चुनावों में एक बात खास रही जो तारीफेकाबिल है। मतदान समय सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक निर्धारित था लेकिन शाम 5 बजे भी लंबी लाइनों को देखते हुए मतदान व्यवस्था सुचारु रखी गई और मतदान प्रक्रिया जारी रही।

RESPONSES

Please enter your comment!
Please enter your name here